CAA के विरोधियों को नहीं कह सकते गद्दार या देशद्रोही : कोर्ट

0
32

नई दिल्ली। देश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर विरोध-प्रदर्शन किया जा रहा है। इन प्रदर्शनकारियों को देश गद्दार या देशद्रोही तक कहा जा रहा है। इसी बीच बॉम्बे उच्च न्यायालय की औरंगाबाद पीठ ने सख्त टिप्पणी की है। कोर्ट ने प्रदर्शनकारियों को लेकर कहा कि उन्हें केवल इसलिए गद्दार या देशद्रोही नहीं कहा जा सकता, क्योंकि वह एक कानून का विरोध कर रहे हैं। कोर्ट ने सीएए के खिलाफ आंदोलन के लिए पुलिस द्वारा अनुमति न दिए जाने के खिलाफ दायर की गई याचिका पर सुनवाई करते हुए ये बात कही।

पीठ ने कहा कि इस तरह के आंदोलन से सीएए के प्रावधानों की अवज्ञा का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता। कोर्ट कहना चाहती है कि इन लोगों को केवल इसलिए गद्दार, देशद्रोही नहीं कहा जा सकता, क्योंकि वह एक कानून का विरोध करना चाहते हैं। यह केवल सीएए की वजह से सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का कार्य होगा।

कोर्ट ने बीड जिले के अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (एडीएम) और बीड में मजलगांव शहर पुलिस द्वारा पारित दो आदेशों को रद्द कर दिया। पुलिस ने आंदोलन की इजाजत न देने के लिए एडीएम के आदेश का हवाला दिया था। कोर्ट ने कहा कि भारत को प्रदर्शन के कारण स्वतंत्रता मिली जो अहिंसक थे और आज की तारीख तक इस देश के लोग अंहिसा का रास्ता अपनाते हैं। हम बहुत भाग्यशाली है कि इस देश के लोग अब भी अहिंसा में विश्वास रखते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here