भाजपा सह मीडिया प्रभारी टीनू जैन ने निगमायुक्त को लिखा पत्र, सिटी बसों पर स्वतंत्रता सेनानियों का चित्रण करने का दिया सुझाव

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मार्गदर्शन में भी समूचे मध्यप्रदेश में अनेक रचनात्मक कार्य भी किए जा रहे हैं। ऐसे में देश की 75 वीं वर्षगांठ का मतलब 75 वर्ष पर विचार, और 75 वर्ष की उपलब्धियां, 75 वर्ष की प्रगति और 75 वर्ष पर संकल्प शामिल है।

स्थानीय सिटी बसों पर आजादी के अमृत महोत्सव पर गौरवशाली स्वतंत्रता सेनानियों का चित्रण 1 अगस्त से 15 अगस्त तक प्रदर्शित किए जाने को लेकर पत्र के माध्यम से सुझाव दिया गया है। सुझाव आवेदन पत्र निगमायुक्त प्रतिभा पाल को दिया गया है, इसमें उल्लेख किया गया है कि देश की स्वतंत्रता की 75 वर्ष पूर्ण होने पर 75 सप्ताह पूर्व राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की दांडी यात्रा की वर्षगांठ के अवसर पर 12 मार्च 2021 को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साबरमती आश्रम से पदयात्रा को हरी झंडी दिखाकर आजादी के अमृत महोत्सव का श्रीगणेश किया था।

जिसके बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मार्गदर्शन में भी समूचे मध्यप्रदेश में अनेक रचनात्मक कार्य भी किए जा रहे हैं। ऐसे में देश की 75 वीं वर्षगांठ का मतलब 75 वर्ष पर विचार, और 75 वर्ष की उपलब्धियां, 75 वर्ष की प्रगति और 75 वर्ष पर संकल्प शामिल है। ऐसे में स्वतंत्र भारत के सपनों को साकार करने के लिए आगे बढ़ाने की प्रेरणा प्रदान करते हुए, आगामी 25 वर्ष श्रेष्ठ भारत की कल्पना को मजबूती प्रदान करने की बात कही गई है।

Must Read- केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी इंदौर को देंगे सौगात, 2300 करोड़ रु. की लागत से बने कार्य का करेंगे भूमिपूजन

अमृत महोत्सव के उद्देश्य में सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्वतंत्रता आंदोलन को भारत के इतिहास की परंपरा को स्थापित करना है। इस दौरान अनुरोध किया गया है कि अमृत महोत्सव के तहत इंदौर महानगर में स्थानीय जन परिवहन सेवा (लोकल पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन) पर हमारे गौरवशाली स्वतंत्रता सेनानियों का चित्रण आगामी 1 अगस्त से 15 अगस्त तक प्रदर्शित किया जाए। साथ ही यह भी सुझाव दिया गया है कि स्वतंत्रता आंदोलन में भागीदारी करने वाले मालवा निमाड़ के ही ऐसे अनेक सशक्त सेनानी है, जिन्हें अपने योगदान को बार-बार स्मरण कराने करने की आवश्यकता है। ऐसे में सिटी बसों के माध्यम से हम इस नवाचार के जरिए युवा पीढ़ी को गौरवशाली इतिहास से रूबरू करवा सकते हैं। इस बात पर भी विश्वास जताया है कि इस दिशा में सार्थक और प्रभावी पहल के माध्यम ओर भी कार्य को संपादित कर सकते हैं।