बिहार के नवादा से सामूहिक आत्महत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिसमें आदर्श सोसायटी में एक ही परिवार के 6 लोगों ने जहर पी लिया, जिनमें से पांच लोगों की मौत हो गई। गंभीर हालत में लड़की को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि परिवार कर्ज में डूबा था और वसूली की प्रताड़ना से परेशान होकर जहर खा लिया। पुलिस ने इस मामले में तीन सूदखोरों को गिरफ्तार किया है।

सूदखोरों से प्रताड़ित होकर परिवार ने उठाया कदम

जानकारी के मुताबिक नवादा के न्यू एरिया कॉलोनी में किराए के घर पर रहने वाला केदारलाल गुप्ता (50) एक फल की दुकान चलाता था। उसने कुछ साल पहले साहूकारों से करीब 12 लाख रुपये का कर्ज लिया था। केदारलाल ने उन पैसों से अपनी फलों की दुकान के बगल में एक चाट की दुकान खोली थी।
कुछ समय बाद जब साहूकारों ने ब्याज सहित पैसा चुकाने को कहा तो वह उसका भुगतान नहीं कर पाया।

बताया जा रहा है कि कर्जदाता केदारनाथ गुप्ता पर पैसा चुकाने का दबाव बना रहे थे। परिवार के अन्य सदस्यों को भी प्रताड़ित किया जा रहा था। इसी से तंग आकर पूरे परिवार ने सामूहिक रूप से यह खौफनाक कदम उठाया।

Also Read: Indore : संदिग्ध वाहनों की पहचान के लिए अब नया तरीका अपनाने जा रही है इंदौर पुलिस, जाने ये विशेष सुविधा

परिवार की तीसरी बेटी की हालत नाजुक

सूचना पर पहुंची पुलिस के सभी लोगों को पावापुरी स्थित वर्धमान मेडिकल कॉलेज पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने पांच लोगों को मृत घोषित कर दिया और गंभीर हालत में साक्षी का उपचार शुरू कर दिया। साक्षी ने शुरुआती पूछताछ में पुलिस को बताया कि साहूकार लोग उसके पिता को लगातार परेशान कर रहे थे। इसके कारण उन्होंने आत्महत्या करने का फैसला किया था। पुलिस अब परेशान करने वाले साहूकारों का पता लगाने में जुटी है।