Ayodhya (UP) : सामने आई राममंदिर निर्माण की तस्वीरें, गर्भगृह तक पहुंचेगी सूर्य की रोशनी, परिसर में लगेंगे रामायण कालीन वृक्ष

उत्तरप्रदेश के अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर रामलला के मंदिर निर्माण की प्रक्रिया पुरे जोर-शोर के साथ जारी है। राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने राममंदिर निर्माण की एक्सक्लूसिव तस्वीरें जारी की हैं । 

उत्तरप्रदेश (UP) के अयोध्या (Ayodhya) में भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर रामलला के मंदिर निर्माण की प्रक्रिया पुरे जोर-शोर के साथ जारी है। राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने राममंदिर निर्माण की एक्सक्लूसिव तस्वीरें जारी की हैं । इन जारी की गई तस्वीरों में वर्तमान में चल रहे राममंदिर निर्माण कार्य की विभिन्न झलक प्रस्तुत की गई है।

Also Read-सेवानिवृति आयु 65 वर्ष करने का प्रस्ताव, अभी 62 की उम्र में होता है Retirement

कई दशकों से जारी है मंदिर के लिए पत्थर कटाई

गौरतलब है कि राममंदिर निर्माण में लगने वाले पत्थरों की कटाई और नक्काशी कई दशक पहले से लगातार जारी है। बाबरी मस्जिद के न्यायोचित विध्वंस के बाद  श्रीराम जन्मभूमि के निर्माण की प्रकिया काफी विलम्ब से शुरू हो पाई, परन्तु मंदिर के निर्माण में लगने वाले पत्थरों की कटाई और नक्काशी इस दौरान लगातार जारी रही, धीरे-धीरे ही सही मगर कभी यह प्रक्रिया थमी नहीं।

Also Read-Bollywood : विजयपथ से भोला तक तब्बू-अजय देवगन का 9 फिल्मों का सफर, एक्ट्रेस ने शेयर की नई फिल्म की तस्वीर

गर्भगृह तक पहुंचेगी सूर्य की रोशनी, परिसर में लगेंगे रामायण कालीन वृक्ष

अयोध्या में बन रहे भगवान श्रीराम के बहुप्रतीक्षित मंदिर का निर्माण वास्तु और निर्माण कला का ऐसा उदाहरण प्रस्तुत करेगा जोकि अबतक शायद ही देखने को मिला हो। जानकारी के अनुसार रामलला के मंदिर के निर्माण में आधुनिक आर्किटेक्टों और इंजीनियरों के साथ ही वास्तुकला और भारतीय निर्माण शैली के जानकार विशेषज्ञों की भी विशेष भूमिका रहेगी।  इसके साथ ही जानकारी मिली है की अंतरिक्ष वैज्ञानिक भी अपनी सेवा मंदिर के विशिष्ट निर्माण में प्रदान कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार मंदिर का निर्माण कुछ इस वैज्ञानिक तरिके से किया जाएगा सूर्य की रौशनी सीधे मंदिर के गर्भगृह तक पहुंच पाएगी। इसके साथ ही मंदिर परिसर में वाल्मीकि रामायण में उल्लेखित वृक्षों का रोपण किए जाने की जानकारी भी सूत्रों के माध्यम से प्राप्त हुई है।