Taj Mahal के बाद अब Qutub Minar पर छिड़ा विवाद, हिंदू संगठनों ने किया हनुमान चालीसा का पाठ

जिस संगठन ने कुतुब मीनार पर हनुमान चालीसा पढ़ कर इसे विष्णु स्तंभ नाम देने की मांग की है. उसके अध्यक्ष का यह दावा है कि कुतुबमीनार को 27 जैन और हिंदू मंदिरों को तोड़कर बनाया गया था.

Qutub Minar

दिल्ली। देश में इस समय ताजमहल (Taj Mahal) को लेकर कई सारी बातें चल रही है. कहा जा रहा है कि इसके 22 कमरों को खोल कर अंदर क्या है इसके बारे में सारी बातें सार्वजनिक की जाए. इसी बीच अब कुतुब मीनार (Qutub Minar) को लेकर भी बखेड़ा खड़ा हो गया है. दिल्ली के कुतुब मीनार परिसर में हिंदू संगठनों ने इकट्ठा होकर हनुमान चालीसा का पाठ किया और इसका नाम विष्णु स्तंभ रखे जाने की मांग की. बता दें कि यूनाइटेड हिंदू फ्रंट ने यह दावा किया है कि जैन और हिंदू मंदिरों को तोड़कर कुतुबमीनार (Qutub Minar) का निर्माण किया गया था. यहां हनुमान चालीसा का पाठ करने के बाद संगठन के कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया है. यह विवाद तब सामने आया है जब ताजमहल को तेजो महालय बता कर वहां शिव मंदिर और अन्य हिंदू कलाकृतियां होने की बात कही जा रही है. इसके लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर की गई है.

 

जिस संगठन ने कुतुब मीनार (Qutub Minar) पर हनुमान चालीसा पढ़ कर इसे विष्णु स्तंभ नाम देने की मांग की है. उसके अध्यक्ष का यह दावा है कि कुतुब मीनार को 27 जैन और हिंदू मंदिरों को तोड़कर बनाया गया था. परिसर में जो हिंदू देवी देवताओं की मूर्तियां है उनका जीर्णोद्धार किया जाना चाहिए साथ ही हिंदुओं को परिसर में पूजा करने की इजाजत भी मिलनी चाहिए.

Must Read- दुःखद खबर : नहीं रहे देश के ख्यात संतूर वादक Pandit Shivkumar Sharma

पिछले महीने ही इसी तरह का दावा विश्व हिंदू परिषद (Vishwa Hindu Parishad) के प्रवक्ता विनोद बंसल ने भी किया था. इसके अलावा बीजेपी के पूर्व सांसद तरुण विजय भी मीनार को लेकर कई सारे सवाल कर चुके हैं. उन्होंने कहा था कि परिसर में श्री गणेश की उल्टी प्रतिमा है साथ ही एक प्रतिमा को पिंजरे में रखा हुआ है. यह सब बातें हिंदू भावनाओं को आहत करती है. उन्होंने कहा था कि या तो इन मूर्तियों को हटा दें या फिर उन्हें सम्मान पूर्वक स्थापित किया जाए.