382 साल बाद मौनी अमावस्या पर आज बन रहा ऐसा संयोग, होगी हर ख्वाहिश पूरी

0

माघ महीने में आने वाली अमावस्या हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मौनी अमावस्या कहलाती है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान से विशेष पुण्यलाभ प्राप्त होता है। कहा जाता है कि इस दिन गंगा का जल अमृत बन जाता है। इसलिये माघ स्नान के लिये माघी अमावस्या यानि मौनी अमावस्या को बहुत ही खास माना गया है। इस साल मौनी अमावस्या का यह त्यौहार 24 जनवरी को है।

382 साल बाद बनेगा महायोग

मौनी अमावस्या के मौके पर शनि स्वयं की राशि मकर में प्रवेश कर रहा है। ढाई साल तक एक राशि में रहने के बाद करीब हर 30 साल बाद शनि मकर राशि में आ जाता है। ज्योतिषीय नजरों के अनुसार ऐसा 382 साल बाद संभव हो पा रहा है जब शनि अपनी राशि में मौनी अमावस्या पर आ रहे हो। जानकारों के अनुसार इससे पहले 1637 में मौनी अमावस्या पर शनि का मकर राशि में प्रवेश हुआ था।

अमावस्या के दिन इस उपाय को आजमाने से दूर होगी पैसों से जुड़ी समस्या

इस दिन नर्मदा, गंगा, सिंधु, कावेरी सहित अन्य पवित्र नदियों में स्नान, दान, जप, अनुष्ठान करने से कई दोषों का निवारण होता है। इस दिन ब्रह्मदेव और गायत्री का भी पूजन विशेष फलदायी होता है। अमावस्या के दिन 108 बार तुलसी परिक्रमा करें। जिन लोगों का चंद्रमा कमजोर है, वह गाय को दही और चावल खिलाएं तो मानसिक शांति प्राप्त होगी। इसके अलावा मंत्र जाप, सिद्धि साधना एवं दान कर मौन व्रत को धारण करने से पुण्य प्राप्ति और भगवान का आशीर्वाद मिलता है। इस दिन मौन व्रत धारण करने से विशेष लाभ की प्राप्ति होती है।