शादी समारोह में पुस्तकें भेंट करने का संकल्प लिया जाना चाहिए – संपादक राजेश राठौर

प्रसिद्ध न्यूज़ पोर्टल घमासान डॉट कॉम द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय महिला साहित्य समागम में वरिष्ठ पत्रकार तथा घमासान डॉट कॉम के संपादक राजेश राठौर ने कहा

साहित्य समागम समापन सत्र में बोलते हुए इंदौर के वरिष्ठ पत्रकार तथा घमासान डॉट कॉम के संपादक राजेश राठौर(Rajesh Rathore) ने कहा कि पुस्तकें पढ़ने की आदत कम होती जा रही है पहले हर घर में पुस्तकें दिख जाया करती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है इसलिए यह संकल्प लिया जाना चाहिए कि शादी समारोह से लेकर कहीं पर भी यदि कोई भेंट देना है तो उस समय पुस्तकों की भेंट दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि वे हर शादी समारोह में पुस्तकें ही भेंट करते हैं।

Read More : Priyanka Chopra ने खुलेआम की निक जोनस को Kiss, रोमांटिक मूड में आई नजर, देखे Photo

पुरुष की दृष्टि में महिला लेखन विषय पर बोलते हुए राजेश राठौर ने कहा कि सुभद्रा कुमारी चौहान से लेकर कृष्णा सोबती, महाश्वेता देवी और तस्लीमा नसरीन तक ने महिला लेखन की सार्थकता को साबित किया है उन्होंने कहा कि महिला लेखन का अपना एक गौरवपूर्ण इतिहास है।

Read More : लेखन को दो धाराओं में नहीं बांटना चाहिए – प्रसिद्ध लेखक दीपक पांडे

अंतर्राष्ट्रीय महिला साहित्य समागम की सफलता के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि आने वाले समय में हम विश्व के और भी अधिक देशों से हिंदी लेखक और लेखिकाओं को आमंत्रित करेंगे उन्होंने नीदरलैंड सिंगापुर नेपाल बेल्जियम सहित अनेक देशों से आए लेखक लेखिकाओं को धन्यवाद भी दिया । इस अवसर पर बेहद सफल आयोजन के लिए राजेश राठौर का सम्मान भी किया गया।