इंदौर, प्रदीप जोशी। प्रवासी भारतीय सम्मेलन के लिए इंदौर विकास प्राधिकरण की “पधारो म्हारे घर” अभियान की अब देश भर में सराहना हो रही है।  “अतिथि देवो भव:”  के भाव के साथ शुरू किए गए इस अभियान में शहर के 75 घरों के द्वार मेहमानों के लिए खुल गए है। जिन लोगों ने अपने घर होम स्टे के लिए देने में सहर्ष सहमति प्रदान की है उनमे शहर के शिक्षाविद, समाजसेवी और उद्योगपति शामिल है। इंदौर के डेली कॉलेज के प्राचार्य, कॉलेज बोर्ड ऑफ गवर्नर्स, पुराने छात्र सहित 25 लोगों ने मेहमानों को अपने घर में आतिथ्य देने की बात कही है।

एप में है होम स्टे की संपूर्ण जानकारी

प्रवासी भारतीयों और उनका अपनें घर पर आतिथ्य करने वाले मेजबानों की सुविधा के लिए प्राधिकरण ने अतिथि देवों भव: नाम से एप्लिकेशन को लॉन्च किया है। इस ऐप के माध्यंम से आने वाले प्रवासी अतिथि और अपने घर पर आतिथ्य की सुविधा प्रदान कर रहे मेजबान अपनी सम्पूर्ण जानकारी भरकर एप्लिकेशन पर रजिस्टर कर सकते है। इस ऐप्लिकेशन में इंदौर के सभी धार्मिक और ऐतिहासिक स्थलों के विषय में भी जानकारी उपलब्ध है, जिससे आने वाले अतिथि इंदौर की संस्कृति से जुड़ाव महसूस कर सके।

साथ ही साथ एप्लिकेशन में मेजबानों के घर की लोकेशन और घर की तस्वीर भी रहेगी, जिससे आने वाला अतिथि को अपने रहने के स्थान का चयन करने से पहले उससे जुडी सभी आवश्यक जानकारी हो। यही नहीं एप में अतिथि और मेजबान अपनी सम्पूर्ण जानकारी जैसे अपना नाम, पता, अपने खाने की हैबिट, अपने वाहन की जानकारी आदि भर सकते है।

मेहमानों को घर का एहसास 

इंदौर विकास प्राधिकरण अध्यक्ष जयपालसिंह चावडा ने कहा कि वैसे तो प्रशासन ने आने वाले अतिथियों के लिए पूर्ण व्यवस्था कर ली हैं। पर हमारी कोशिश है कि जो प्रवासी कई वर्षों से अपने वतन से दूर हैं, उन्हें अपनेपन का अहसास हो। इसी सोच को ध्यान में रखते हुए पधारो म्हारे घर की शुरूआत की। यह अभिनव आयोजन इंदौर की जनता का है प्राधिकरण इसमे सिर्फ एक माध्यम है।

सहर्ष मेजबानी की पेशकश

प्राधिकरण अपने अभियान के तहत शहर की प्रतिष्ठित संस्थाओं और संगठनों से चर्चा कर रहा है। अलग अलग स्तर पर इस बैठक में डॉक्टर, प्रोफेशनल्स, इंडस्ट्रियलिस्ट्स, बिजनसमैन, रियलस्टेट जैसे विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिष्ठितजनो सहर्ष मेजबानी की पेशकश की। पिछले दिनों डेली कॉलेज में हुई बैठक में कॉलेज के पूर्व छात्रों ने हाथो हाथ 22 मेजबानों की सूची प्राधिकरण के सीईओ रामप्रकाश अहिरवार को सौप दी। मेजबानी के लिए सहमति देने वालों में डेली कॉलेज की प्रिंसिपल गुनमीत कौर बिंद्रा, डॉक्टर मनीष पटेल, मयूर ध्वज सिंह झाबुआ, रूचिर जुधानी, नितेश चुग, करण नरसरिया, धीरज लुल्ला, कैप्टन सनप्रीत सिंह, हर्षवर्धन सिंह आदि प्रमुख है।