खस्ताहाल एयर इंडिया पर तेल कंपनियों का 4500 करोड़ रुपए बकाया, ईंधन आपूर्ति पर लगी रोक

सरकारी एयर लाईन एयर इंडिया की आर्थिक स्थिति काफी बुरे दौर से गुजर रही है। आलम ये है कि कंपनी पर तीन तेल कंपनियों का 4500 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है, जिसे बीते सात महिनों से नहीं चुकाया गया है। जिसके चलते तेल कंपनियों ने 6 एयरपोर्ट पर ईंधन की सप्लाई पर दरोक लगा दी है।

0
46

नई दिल्ली। सरकारी एयर लाईन एयर इंडिया की आर्थिक स्थिति काफी बुरे दौर से गुजर रही है। आलम ये है कि कंपनी पर तीन तेल कंपनियों का 4500 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है, जिसे बीते सात महिनों से नहीं चुकाया गया है। जिसके चलते तेल कंपनियों ने 6 एयरपोर्ट पर ईंधन की सप्लाई पर दरोक लगा दी है। जिसमें रांची, मोहाली, पटना, विशाखापट्टनम, पुणे और कोच्चिन में एयर इंडिया के हवाई जहाजों को ईंधन नहीं मिलेगा।

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिकएयर इंडिया को 90 दिन का क्रेडिट पीरियड मिलता है। लेकिन हवाई कंपनी ने 200 दिनों से किसी तरह का भुगतान नहीं किया है, जिसके बाद कंपनी को यह कदम कदम उठाना पड़ा है। हांलाके एयर इंडिया ले तेल कंपनी को 60 करोड़ रुपए की पेशकश की थी, जो कि बकाया राशि के मुकाबले काफी कम है। इंडियन ऑयल के प्रवक्ता का कहना है कि गुरुवार शाम से ईंधन आपूर्ति को पर रोक लगाई गई है। हम हवाई कंपनी के संपर्क में हैं, जल्द ही इसका समाधान निकाल लिया जाएगा।

वहीं तेल कंपनियों ने ईंधन की सप्लाई रोकने से पूर्व एयर इंडिया को पत्र भी लिखा था, लेकिन इसका कंपनी ने कोई जवाब नहीं दिया था। तेल कंपनियों का कहना है कि जब तक उनको सरकार की ओर से कोई वित्तीय सहायता नहीं मिलती है, जबकि एयर इंडिया को पूरी सरकारी सहायता दी जाती है।

सौ फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में सरकार

इधर केन्द्र सरकार एयर इंडिया में सौ फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर रही है। कंपनी के बिगड़ते वित्तीय हालात को देखते हुए सरकार ये कदम उठाने जा रही है। बताया जा रहा है कि सरकार की ओर से गठित मंत्री समूह इस विषय में एक सप्ताह के भीतर फैसला ले सकता है। मंत्री समूह में गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रेल मंत्री पीयूष गोयल और नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी शामिल हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले के कार्यकाल में सरकार ने एयर इंडिसा में 76 फीसदी बेचने की तैयारी की थी, लेकिन तब किसी ने हिस्सेदारी खरीदने में रूचि नहीं दिखाई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here