12 साल के लड़के ने बनाई शराब, पीला दी दोस्त को फिर हुआ ये हाल

केरल की राजधानी तिरुवनन्तपुरम से बेहद शॉकिंग करने वाली खबर सामने आई है। यहां पर एक नाबालिक लड़के ने यूट्यब के माध्यम से शराब बनाई। वह स्कूल में ले गया और वहा पर अपने दोस्तों को पीला दी।

केरल की राजधानी तिरुवनन्तपुरम से बेहद शॉकिंग करने वाली खबर सामने आई है। यहां पर एक नाबालिक लड़के ने यूट्यब के माध्यम से शराब बनाई। वह स्कूल में ले गया और वहा पर अपने दोस्तों को पीला दी। शराब के दो घूंट पीते ही उनको बेचैनी और उल्टी होने लगी। इसके बाद उसे चिरायिनकीझू के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल लड़के की तबीयत पहले से बेहतर बताई जा रही है।

आज के दौर में सोशल मीडिया प्लेटफार्म अधिक प्रचल में आ गए है। जिसमें एक है यूट्यूब, इस पर हर तरह की समस्या के निधन के लिए वीडियो मौजूद रहते है। लेकिन हाल के दिनों में एक नाबालिक लड़के ने यूट्यूब पर सर्च कर शराब बनाने का तरीका खोजा और बना दी। इसके बाद वह स्कूल में ले गया और वह पर उसने अपने दोस्त को पीला दी।

जैसे ही उसके फ्रैंड ने शराब के दो घूंट पिए उसके बाद तबियत खराब हो गई। तबियत जैसे ही ख़राब होने लगी तो उसे वही के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसला इलाज जारी है और अब उसकी तबियत भी पहले से ठीक है। शराब बनाने वाला लड़का केरल की राजधानी तिरुवनन्तपुरम का है। उसकी उम्र महज 12 साल बताई जा रही है और वह सरकारी स्कूल का छात्र है।

Also Read : लद्दाख में शुरू होगी देश की पहली हाइड्रोजन बस सेवा

समाचार पत्रों के अनुसार, यह घटना शुक्रवार को एक सरकारी स्कूल में हुई। पुलिस पूछताछ में शराब बनाने वाले छात्र ने स्वीकार किया कि उसके माता-पिता अंगूर खरीदकर लाए थे। उन्हीं अंगूरों का उपयोग करके उसने शराब बना ली। नाबालिग ने बताया कि शराब बनाने के लिए स्प्रिट या किसी अन्य तरह के अल्कोहल का उपयोग नहीं किया था। यूट्यूब वीडियो के अनुसार ही शराब को उसने एक बोतल में भरकर जमीन के नीचे दबा दिया। पुलिस ने कहा कि लड़के की मां को पता था कि वह शराब बनाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया। फिलहाल पुलिस ने शराब का सैंपल बोतल से एकत्रित कर कोर्ट से अनुमति से रासायनिक जांच के लिए भेज दिया है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि, अगर जांच में सामने आया कि लड़के ने शराब में स्प्रिट या किसी अन्य तरह के अल्कोहल को मिलाया है, तो उसके खिलाफ किशोर न्याय अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। पुलिस ने लड़के के माता-पिता और स्कूल के अधिकारियों को मामले से संबंधित कानूनी परिणामों के बारे में जानकारी दे दी है।