नई दिल्ली। चीन, जापान, दक्षिण कोरिया और अमेरिका समेत दुनियाभर के कई देशों में कोरोना वायरस तबाही मचा रहा है। कोरोना के केस तेज रफ़्तार से बढ़ रहे है। भारत में कोरोना की नई लहर की आशंका के बीच विदेश से आए यात्रियों में कोविड-19 के ओमिक्रॉन वैरिएंट के 11 सब वैरिएंट मिले हैं। इन सभी स्वरूप के मामले पहले भी भारत में सामने आ चुके हैं।

जानकारी के मुताबिक, 24 दिसंबर से 3 जनवरी तक एयरपोर्ट और समुद्र (airport and sea) के रास्ते भारत आए यात्रियो की कोरोना टेस्टिंग की गई थी। इनमें पॉजिटिव मिले यात्रियों में 11 वैरिएंट मिले हैं। 24 दिसंबर से 3 जनवरी के बीच 19,227 अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के सैंपलों की जांच की गई। इनमें से 124 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं, जिन्हें आइसोलेट किया गया है।

Also Read – अब घर बैठे करें काशी विश्वनाथ के LIVE दर्शन, यूट्यूब पर होगा सीधा प्रसारण

इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि कोरोना किस तरह अलग अलग रूप रखकर अपनी दशा बदल रहा है। इतने सब वैरिएंट के सामने आने के बाद ये एकदम से अंदाजा लगाना मुश्किल है कि कौनसा वैरिएंट कितना बुरा असर डालेगा। विदेशों से भारत आने वाले यात्रियों के सैंपल इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स (International Airports) और बंदरगाहों पर लिए गए थे। संक्रमित लोगों की जीनोम सीक्वेंसिंग की गई, तो इनमें 11 कोरोना वैरिएंट की पुष्टि हुई है। ये सभी ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट हैं।

चीन समेत दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस का खतरा लगातार जारी है। चीन में फिलहाल स्थिति काफी विकराल बताई जा रही है। यही कारण है कि भारत में भी इसको लेकर सतर्कता बरती जा रही है। एयरपोर्ट और बंदरगाह पर विदेश जाने वाले यात्रियों की निगरानी की जा रही है। वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (WHO) ने बताया कि चीन की ओर से जारी किए गए डेटा से पता चलता है कि ओमिक्रॉन के सब वेरिएंट्स BA.5.2 और BF.7 से ही लोग संक्रमित हो रहे हैं। ये वेरिएंट 97.5 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार हैं।