पाकिस्तानविदेश

इमरान खान ने माना- पाक नहीं झेल सकता लॉकडाउन, कोरोना के साथ ही जीना होगा

नई दिल्ली : दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. इसी बढ़ते खतरे के चलते दुनियाभर में कई देशों में लॉकडाउन अब भी जारी है. वहीं कोरोना लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपना अहम बयान दिया है.

इमरान खान ने शनिवार को कहा है कि “कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के चलते 150 मिलियन से ज्यादा पाकिस्तानी प्रभावित हुए हैं.” इसी के चलते उन्होंने पाकिस्तान में सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने का ऐलान किया है. इमरान खान ने फिर एक बार अपने बयान के जरिए बताया है कि पाकिस्तान अनिश्चितकालीन की बंदी का सामना नहीं कर सकता है.

लॉकडाउन से आर्थिक स्थिति बेहद ख़राब-

कोरोना से निपटने के लिए उठाए गए क़दमों के बारे में जानकारी देने के लिए अपनी कोर टीम के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा कि “पाकिस्तान अमेरिका, यूरोप और चीन की तरह लॉकडाउन लागू नहीं कर सकता है. पहले ही लॉकडाउन ने देश में आर्थिक स्थिति को बुरी तरह प्रभावित किया है, विशेष रूप से कमजोर वर्ग को, जिनमें 25 मिलियन लोग शामिल थे जो दैनिक या साप्ताहिक मजदूरी पर रहते थे.”

गरीबी से परेशान पाकिस्तान-

इमरान खान ने कहा, “लगभग 150 मिलियन लोग कोरोनो वायरस और लॉकडाउन के कारण आर्थिक रूप से परेशान हैं.” बता दें कि पाकिस्तान की कुल आबादी करीब 220 मिलियन है. इसके साथ ही खान ने सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने की गुहार लगाई क्योंकि गरीब लोगों को मार रहा है.

इमरान खान ने कहा कि “वायरस कुछ समय तक हमारे साथ रहेगा जब तक कि इसके खिलाफ एक टीका विकसित नहीं कर लिया जाता है. लेकिन हम इसे अनिवार्य दिशानिर्देशों का पालन करके निपटा सकते हैं.”