Breaking News

इन चार कारणों से बढ़ रहा है धरती पर पर्यावरण प्रदूषण

Posted on: 05 Jun 2018 09:01 by krishna chandrawat
इन चार कारणों से बढ़ रहा है धरती पर पर्यावरण प्रदूषण

नई दिल्ली : हर साल 5 जून को पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर कई जगह पौधे लगाए जाते हैं। और लोगो को पर्यावरण के प्रति जागरूक रहने के लिए सजग किया जाता है हालांकि ये सभी प्रयत्न  सिर्फ पर्यावरण दिवस पर ही नहीं किए जाते हैं।

बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए कई शहरों में प्लांट व उपकरण लगाए गए हैं और साथ ही प्रदूषण फ़ैलाने वाली वस्तुओं पर अकुंश भी लगाया जा रहा है। लेकिन ये सभी प्रयास के बावजूद हम पर्यावरण प्रदूषण को रोक पाने में कामयाब नहीं हो रहें है।

क्या आप जानते हैं धरती पर हो रही ग्लोबल वॉर्मिंग के पीछे किसका हाथ है?  क्या इन सब के पीछे कोई एक है। जिसकी वजह से धरती का तापमान बढ़ता जा रहा है और पृथ्वी पर ऐसे हालत देखने को मिल रहें हैं। तो आइए हम बताते है आखिर किन कारणों से पर्यावरण प्रदूषण निरंतर बढता जा रहा है।

प्रदूषण फ़ैलाने में 30% जिम्मेदार है बिजली

वैसे तो बिजली हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि बिना बिजली के हमारा जीना मुशिकल है। लेकिन क्या आप जानते हैं पर्यावरण को प्रदूषित करने में लगभग 30 प्रतिशत जिम्मेदारी बिजली की है। क्योंकि बिजली बनाने के लिए कोयले और तेल जैसे ईंधन को जलना पड़ता हैं जिससे की प्रदूषण होता है।via

परिवहन, जलवायु परिवर्तन की दूसरी सबसे बड़ी वजह 

वाहनों से निकलने वाले धुएं से लगातार जलवायु में परिवर्तन हो रहा है। वर्तमान में अधिकतर लोग सडको पर ट्रैफिक सिग्नल रुकने के बाद भी गाड़ी बंद नहीं करते हैं। इसके साथ ही सडको पर दौड़ रहे तेज आवाज वाले वाहनों ने ध्वनि प्रदूषण को फैला रखा हैं । आपको बता दे कि साइकिल को छोड़कर स्कूटर, बाइक, कार, हवाई जहाज़ यह सब मिल-जुलकर ग्लोबल वॉर्मिंग के लिए 15 प्रतिशत जिम्मेदार हैं। वर्ल्ड रिसॉर्स इंस्टीट्यूट की एक रिपोर्ट मुताबिक परिवहन जलवायु परिवर्तन की दूसरी सबसे बड़ी वजह है। via

औद्योगिकीकरण तीसरा सबसे बड़ा कारण 

आपको जानकर यह हैरानी होगी की शहरो में लगातार बन रही इमारतें और धुआं छोड़ती फैक्ट्रियां ग्लोबल वॉर्मिंग की तीसरी सबसे बड़ी वजह है। परिवहन और निर्माण कार्य में कुछ खास फर्क नहीं है और इससे 13 % के साथ यह तीसरे नंबर है। डब्लूआरआई की एक  रिपोर्ट अनुसार सीमेंट और एल्युमिनियम निर्माण में लगने वाली ऊर्जा को जलवायु परिवर्तन के लिए 6 फीसदी तक जिम्मेदार बताया गया है।via

जंगल काटकर खेत तैयार करना चौथी वजह 

हम आए दिन प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहें है। और  लगातार जंगलों को काट खेत बना रहें हैं और पहाड़ो को काटकर रास्तें बना रहे हैं। लेकिन आपको यह जानकर  थोडा अजीब लगेगा की ग्लोबल वॉर्मिंग के लिए 11% खेती को जिम्मेदार माना जाता है। इसकी वजह है बीफ जिसके लिए जंगल काटकर खेत तैयार किए जाते हैं।बीफ उत्पादन के मकसद से पाले गए मवेशियों के लिए 28 गुना ज्यादा जमीन, 11 गुना ज्यादा पानी खर्च होता है।

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com