जोशीमठ। उत्तराखंड के जोशीमठ में भू-धंसाव का कहर अब आर्मी बेस पर भी पड़ गया है। सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने जानकारी देते हुए बताया कि सेना की 20 से 25 बिल्डिंगों में दरारें पड़ गई हैं। हालात इतने बिगड़ गए हैं कि जवानों को शिफ्ट करना पड़ रहा है। मनोज पांडे ने बताया कि जवानों को अस्थाई रूप से जोशीमठ से शिफ्ट किया गया है और जरूरत पड़ने पर सेना के जवानों को औली या अन्य जगहों पर भी शिफ्ट किया जा सकता है।

प्राकृतिक संकट के बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जोशीमठ में ही हैं। यहां उन्होंने प्रभावित स्थानीय लोगों से बात की। गुरुवार को धामी ने जोशीमठ समेत पूरे राज्य की रक्षा और संकट हल करने के लिए भगवान से प्रार्थना की। इस दौरान उन्होंने नरसिंह मंदिर में जाकर दर्शन किए।भू धंसाव के चलते 723 मकानों में अभी तक दरारें आई हैं। कई जगहों पर सड़कें फट गई हैं।

Also Read – अरविंद केजरीवाल पर लगा ये बड़ा आरोप, 10 दिन में 164 करोड़ चुकाने का नोटिस जारी

जिन मकानों में दरारें आई हैं, उनमें लाल निशान लगा दिया गया है। लोगों से मकानों को खाली करने के लिए कहा गया है। लोगों को 1.5 लाख रुपए की अंतरिम मदद दी जा रही है। इस बीच एनवायरनमेंट एक्सपर्ट विमलेंदु झा ने कहा कि जोशीमठ को कभी रिपेयर नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जोशीमठ में जो मौजूदा हालात हैं, उसे रिवर्स गियर में नहीं ले जाया जा सकता।

झा ने कहा यह कोई संयोग नहीं है। ये सभी या तो चार धाम सड़क परियोजना या किसी रेल सुरंग क्षेत्र या किसी पनबिजली परियोजना के कारण हो रहा है। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी के इंजीनियरों पूरे जोशीमठ को तबाह कर रख दिया। उन्होंने कहा कि पहाड़ों को जिस तरह से खोदा जा रहा है वही जोशीमठ आपदा का परिणाम है। उन्होंने कहा हर मिट्टी समतल मिट्टी नहीं होती है, जिसे खोदा जाए। इंजीनियर्स को मिट्टी के प्रकार को समझने की दरकार है। इंजीनियरिंग कॉलेजों में इसे पढ़ाए जाने की जरूरत है। यहां की मिट्टी को खोदने का परिणाम लोगों को पता चल रहा है।

बता दे कि पुष्कर सिंह धामी जोशीमठ के दौरे पर हैं। उन्होंने गुरुवार को यहां अधिकारियों के साथ बैठक की। इससे पहले बुधवार रात सीएम धामी ने प्रभावित मकानों और राहत शिविर का दौरा किया। उन्होंने पीड़ित परिवार से भी बात की। इस दौरान सीएम ने हर संभव मदद का भरोसा दिया। पुष्कर सिंह धामी ने लोगों को भरोसा दिलाया कि अभी मकानों को नहीं गिराया जाएगा। अभी सिर्फ 2 होटलों की गिराया जाएगा।