प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM MODI) ने आकाशवाणी से मन की बात कार्यक्रम में लोगों को संबोधित किया। ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि अमृत महोत्सव, सीखने के साथ ही हमें देश के लिए कुछ करने की भी प्रेरणा देता है। और अब तो देश-भर में आम लोग हों या सरकारें, पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक, अमृत महोत्सव की गूंज है और लगातार इस महोत्सव से जुड़े कार्यक्रमों का सिलसिला चल रहा है।

वृन्दावन को लेकर मन कि बात में मोदी ने कहा कि वृंदावन दुनिया भर के लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करता रहा है। इसकी छाप दुनिया के कोने-कोने में देखी जा सकती है । मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के पर्थ में एक ‘Sacred India Gallery’ का जिक्र किया। पीएम ने कहा कि यह गैलरी स्वान वैली के एक खूबसूरत क्षेत्र में बनाई गई है। उन्होंने कहा कि यह ऑस्ट्रेलिया की एक निवासी जगत तारिणी दासी जी के प्रयासों का परिणाम है। ऑस्ट्रेलिया में रहने वाली जगतारिणी 13 साल से भी अधिक समय तक वृंदावन में रहीं। उनका वृंदावन से ऐसा जुड़ाव हुआ कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में ही वृंदावन बना लिया।

आस्ट्रेलिया और बुंदेलखंड के रिश्तों पर बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ये वाकई एक दिलचस्प इतिहास है कि ऑस्ट्रेलिया का एक रिश्ता हमारे बुंदेलखंड के झांसी से भी है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई जब ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ लड़ाई लड़ रही थीं तो उनके वकील जॉन लैंग मूल रूप से ऑस्ट्रेलिया के रहने वाले थे। जिन्होंने रानी लक्ष्मीबाई का मुकदमा लड़ा था। पीएम ने कहा कि स्वतन्त्रता संग्राम में झांसी और बुंदेलखंड का कितना बड़ा योगदान है, ये हम सब जानते हैं। यहां रानी लक्ष्मीबाई और झलकारी बाई जैसी वीरांगनाएं भी हुईं। मेजर ध्यानचंद जैसे खेल रत्न भी इस क्षेत्र ने देश को दिए हैं।