उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में नीलांचल एक्सप्रेस में एक बेहद हैरान करने वाला हादसा हुआ है। जहाँ अचानक ट्रैन की पटरी पर पड़ा एक सब्बल खिड़की तोड़ते हुए यात्री के गर्दन में जा घुसा और सिर फाड़ते हुए निकल गया। इस हादसे में यात्री की मौके पर ही मौत हो गई।इस दौरान ट्रेन की रफ्तार 110 किमी/घंटा बताई जा रही है।

इस भयानक हादसे के बाद ट्रेन में बैठे यात्रियों के बीच खलबली मच गई और कुछ ही देर में कम्पार्टमेंट का फर्श खून से लाल हो गया। इस बीच अन्य यात्रियों ने चेन पुलिंग करके ट्रेन रोकी। GRP और RPF को बुलाया। जिसके बाद रेलवे स्टेशन पर यात्री के शव को उतार लिया गया। फ़िलहाल रेलवे ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक हादसे के दौरान रेलवे ट्रैक पर कुछ निर्माण कार्य चल रहा था। ट्रेन के गुजरने पर रेलवे ट्रैक के पास पड़ी एक रॉड उछलकर खिड़की के शीशे को तोड़ते हुए सीट पर बैठे हुए यात्री की गर्दन में जा घुसी। यह घटना डांबर और सोमना स्टेशन के बीच हुई है। वहीं, ट्रैक पर काम करने वाले मजदूरों की तलाश की जा रही है।

रेलवे के मुताबिक हादसे में जान गंवाने वाले यात्री का नाम हरिकेश कुमार दुबे है। वह सुल्तानपुर के गोपीनाथपुर गांव के रहने वाले थे। गुरुवार को घर जाने के लिए दिल्ली से सुल्तानपुर के लिए रवाना हुए थे। ट्रेन अलीगढ़ के सोमना पहुंचने वाली थी, तभी यह घटना हुई। हरिकेश दिल्ली में मोबाइल टॉवर से जुड़ी कंपनी में टेक्नीशियन थे। वह ट्रेन के जनरल कोच में खिड़की के किनारे बैठे हुए थे।

Also Read : IPL 2023 से पहले नीता अंबानी ने किया बड़ा ऐलान, Rashid Khan को सौंपी मुंबई इंडियंस की कप्तानी

वहीं इस हादसे में मारे गए यात्री के पास सीट पर बैठी एक महिला बाल-बाल बच गई। महिला ने रेलवे कर्मचारियों को बताया कि रॉड उसकी गर्दन को छूकर निकल गई थी। महिला ने बताया कि हादसे के समय ट्रेन की रफ्तार काफी तेज थी और पल भर में हादसा होने के चलते यात्री की चीख भी सुनाई नहीं दी। गौरतलब है कि यह रॉड यात्री की गर्दन से पार होकर कोच की दीवार में भी घुस गई थी।