इंदौर 8 सितम्बर, 2020
राज्य शासन द्वारा दिये गये निर्देशों के परिपालन में इंदौर जिले में गत एक सितम्बर से लेकर 6 सितम्बर तक आयोजित हुई जे.ई.ई. मेन्स 2020 की परीक्षा में शामिल पंजीयत परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्रों तक पहुंचाने के लिये वाहन सुविधा उपलब्ध कराई गई। इस सुविधा का इंदौर जिले में डेढ़ सौ से अधिक परीक्षार्थियों ने लाभ लिया। इनमें से एक परीक्षार्थी को परीक्षा में शामिल होने के लिये जबलपुर तथा एक परीक्षार्थी को उज्जैन के लिये वाहन सुविधा उपलब्ध कराई गई।
यह परीक्षा इंदौर में चार परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की गई थी। परीक्षार्थियों को परीक्षा केन्द्र तक पहुंचाने के लिये वाहन सुविधा उपलब्ध कराई गई। इसके लिये इच्छुक बच्चों का पंजीयन किया गया। लगभग 180 बच्चों ने अपना पंजीयन कराया, इसमें से डेढ़ सौ बच्चों ने इस सुविधा का लाभ लिया। बताया गया कि इसी तरह आगामी 13 सितम्बर को होने वाली नीट परीक्षा के लिये भी परीक्षार्थियों को वाहन सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। इसके लिये पंजीयन की प्रक्रिया जारी है। पंजीयन आगामी 12 सितम्बर तक किया जायेगा। इच्छुक परीक्षार्थी इस सुविधा का लाभ लेने के लिये सी.एम. हेल्पलाइन 181 अथवा मध्यप्रदेश ई-पास पोर्टल https://mapit.gov.in/covid-19/ पर अपना पंजीयन करा सकते है। इस परीक्षा के लिये इंदौर में 63 परीक्षा केन्द्र बनाये गये है। अभी तक 172 परीक्षार्थियों ने अपना पंजीयन कराया है। इंदौर से अन्य जिलों के परीक्षा केन्द्रों पर भी विद्यार्थियों को वाहन सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत उक्त परीक्षाओं में भाग लेने वाले परीक्षार्थियों की सुरक्षा के दृष्टिगत परीक्षार्थियों को परिवहन सुक्धिा उपलब्ध कराये जाने का निर्णय लिया गया है।
इच्छुक परीक्षार्थियों को विकासखण्ड मुख्यालय तथा जिला मुख्यालय के नियत स्थान से जिस नगर में उनका परीक्षा केन्द्र है वहां तक ले जाने एवं वापस लाने हेतु परिवहन सुविधा शासन द्वारा निःशुल्क उपलब्ध कराई जायेगी। नगर के भीतर की परिवहन व्यवस्था तथा उसके निवास स्थान/ग्राम से विकासखण्ड मुख्यालय अथवा जिला मुख्यालय के नियत स्थान तक पहुँचने की व्यवस्था परीक्षार्थी को स्वयं वहन करनी होगी। प्रत्येक परीक्षार्थी को यह छूट होगी कि वे स्वयं के साथ एक अन्य व्यक्ति को भी साथ ला सकें। यदि परीक्षार्थी उसी नगर में निवासरत है जिसमें परीक्षा केंद्र है तो उसे इस सुविधा का लाभ प्राप्त नहीं होगा।