शीर्ष अखाड़ा परिषद का ऐलान- अयोध्या के बाद काशी-मथुरा के मंदिरों को दिलाएंगे मुक्ति

संतो के शीर्ष निकाय अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (ABAP) ऐलान किया है कि अयोध्या मसले का समाधान होने के बाद अब काशी और मथुरा के मंदिरों की मुक्ति के लिए अभियान तेज किया जाएगा।

0
40
Narendra Giri

नई दिल्ली। अयोध्या में विवादित रामजन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। बताया जा रहा है कि एस मामले में एक माह के अंदर फैसला आ सकता है। वहीं संतो के शीर्ष निकाय अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (ABAP) ऐलान किया है कि अयोध्या मसले का समाधान होने के बाद अब काशी और मथुरा के मंदिरों की मुक्ति के लिए अभियान तेज किया जाएगा।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार ABAP अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने गुरुवार को कहा है कि ‘मस्जिदों के निर्माण के लिए काशी और मथुरा में मंदिरों को ध्वस्त कर दिया गया। हम इस मुद्दे को उठाएंगे और सुनिश्चित करेंगे कि इन स्थानों पर भव्य मंदिर बनाए जाएं। केंद्र और राज्य में हिंदू सरकारें हैं और इसके लिए इससे बेहतर समय नहीं हो सकता है।’

महंत का ये भी कहना है हकि काशी और मथुरा को मुक्ति दिलाने की मांग काफी समय से की जा रही है। उन्होंने कहा, ‘हमें विश्वास है कि अयोध्या में अदालत का फैसला राम मंदिर के पक्ष में होगा। मुस्लिम पक्ष का प्रतिनिधित्व करने वाले वकीलों के व्यवहार में हताशा साफ तौर पर देखी गई थी।’

ABAP प्रमुख ने मुसलमानों से कहा है कि वे राष्ट्र हित में काशी और मथुरा पर अपना दावा छोड़ दें। उन्होंने कहा, ‘मुस्लिमों को इन दो स्थानों पर भव्य मंदिरों के निर्माण का समर्थन करना चाहिए।‘

वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर में ज्ञानवापी मस्जिद ने आंशिक रूप से अतिक्रमण किया है। इस जगह पर स्थत मूल काशी विश्वनाथ मंदिर को औरंगजेब ने नष्ट करके 1669 में मस्जिद का निर्माण कराया था।

बता दे कि हिंदू संगठनों द्वारा लंबे समय से मौजूदा काशी विश्वनाथ मंदिर के भव्य जीर्णोद्धार और मस्जिद के स्थानांतरण की मांग की जाती रही है। साथ ही मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि से सटी शाही ईदगाह भी बीते कई सालों से रडार पर हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here