Homeधर्मआज है आश्विन शुक्ल पूर्णिमा तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज है आश्विन शुक्ल पूर्णिमा तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज बुधवार, आश्विन शुक्ल पूर्णिमा तिथि है। आज रेवती नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है
( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

-आज शरदोत्सव, व्रत की पूर्णिमा, कार्तिक स्नान आरम्भ, महर्षि वाल्मीकि जयन्ती, पाराशर ऋषि जयन्ती (मतान्तरे) है।
-श्रीमद् वाल्मीकि रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि जी की जीवनी स्कन्द पुराण, आध्यात्म रामायण, मत्स्य पुराण, श्रीमद् भागवत और कालिदास द्वारा रचित रघुवंश में विस्तार से वर्णित है।
-सुमति नामक भृगुवंशी ब्राह्मण और उनकी पत्नी कौशिक वंश की कन्या से उत्पन्न पुत्र का नाम अग्नि शर्मा (रत्नाकर) था। जन्म से ब्राह्मण जाति के थे।
-अग्निशर्मा (रत्नाकर) का तपस्या के बाद वाल्मीकि नाम हुआ।
-सप्तर्षियों के कहने पर उन्होंने राम नाम जप का 13 वर्ष तक कठोर तप किया था।
-वाल्मीकि जी ने उज्जैन स्थित कुशस्थली में आकर भगवान शिव की आराधना की थी।
-शंकर जी से कवित्व शक्ति पाकर उन्होंने उज्जैन में वाल्मीकि रामायण की रचना की थी।
-वाल्मीकि जी ने उज्जैन में वाल्मीकेश्वर शिव की स्थापना भी की थी।
-महर्षि वाल्मीकि ने किसी प्राचीन काव्य को बिना ही देखे, किसी ग्रन्थ से बिना ही सहारा लिए सर्वोत्तम काव्य “श्रीमद् वाल्मीकि रामायण” की रचना की है।
-बाद में तमसा नदी तट पर भी वाल्मीकि जी का आश्रम था।
-श्रीराम वनवास के समय वे चित्रकूट के समीप तथा राज्यारोहण काल में गङ्गा तट पर बिठूर स्थित आश्रम में रहते थे।
-शरद पूर्णिमा के दिन रात्रि को इन्द्र और महालक्ष्मी का पूजन करना चाहिए। खीर का भोग लगाना चाहिए। इससे लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं।
-पुण्यात्मा मानव के प्राण मुख मण्डल में स्थित सात छिद्रों से बाहर निकलते हैं। पापियों के प्राण गुदा – मार्ग से बाहर होते हैं। योगी मानव के प्राण ब्रह्मरन्ध्र फोड़कर निकलते हैं।
-कार्तिकेय जी ने त्र्यम्बकेश्वर (नाशिक) में तारकासुर को मारने वाली शक्ति प्राप्त की थी।

विजय अड़ीचवाल

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular