Homeधर्मTithi : आज है मार्गशीर्ष शुक्ल पूर्णिमा तिथि, रखें इन बातों का...

Tithi : आज है मार्गशीर्ष शुक्ल पूर्णिमा तिथि, रखें इन बातों का ध्यान

आज रविवार, मार्गशीर्ष शुक्ल पूर्णिमा तिथि है। आज मृगशिरा नक्षत्र, "आनन्द" नाम संवत् 2078 है।

आज रविवार, मार्गशीर्ष शुक्ल पूर्णिमा तिथि है। आज मृगशिरा नक्षत्र, “आनन्द” नाम संवत् 2078 है।
( उक्त जानकारी उज्जैन के पञ्चाङ्गों के अनुसार है)

Also Read – गुरु गोविंद सिंह की जयंती पर आयोजित हुआ भव्य कार्यक्रम, शामिल हुए सांसद लालवानी

-आज स्नान – दान की पूर्णिमा है।
-आज मॉं अन्नपूर्णा एवं देवी षोडशी प्रकट हुई थीं।
-आज के दिन भगवान श्रीकृष्ण ने रासलीला की थी।
-आज के दिन बलराम (दाऊजी) का पाटोत्सव मनाया जाता है।
-ब्रज में दाऊजी को राजा और जाग्रत देव माना जाता है।
-मृत्यु होने की तिथि के बाद पुत्र को एक वर्ष तक आत्मा के प्रति उत्तम षोडशी के विविध श्राद्ध करना चाहिए।
-गरुड़ पुराण सारोद्धार 13/99 के अनुसार – मृत्यु तिथि से ठीक 20 वें दिन ऊनमासिक ( पाक्षिक) श्राद्ध करना चाहिए।
-प्रथम मास मृत्यु तिथि पर।
-फिर मृत्यु तिथि से 45 वें दिन श्राद्ध करना चाहिए। जिसे त्रैपाक्षिक श्राद्ध कहते हैं।
-मृत्यु तिथि से दूसरे, तीसरे, चौथे, पांचवें महीने मृत्यु तिथि पर श्राद्ध करना चाहिए।
-मृत्यु तिथि से साढ़े 5 महीने पर उसी तिथि को ऊनषाण्मासिक ( छह माही) श्राद्ध करना चाहिए।
-मृत्यु तिथि से 6 माह, 7 माह, 8 माह, 9 माह, 10 माह, 11 वें महीने मृत्यु तिथि पर श्राद्ध करना चाहिए।
-मृत्यु तिथि से साढ़े 11 महीने पर उसी तिथि को ऊनाब्दिक ( बरसी) का श्राद्ध विधि – विधान से करना चाहिए।
-बारहवें मास के पूर्ण होने पर वार्षिक मृत्यु तिथि पर श्राद्ध करना चाहिए।
-मृत्यु तिथि से दूसरा वर्ष पूर्ण होने के बाद एकोद्दिष्ट श्राद्ध करना चाहिए तथा इसके बाद पितृपक्ष में मृत्यु तिथि के दिन पार्वण श्राद्ध ( श्राद्ध में मिलाना) करना चाहिए।
-श्राद्ध चिन्तामणि में यम का स्पष्ट वचन है कि – एकोद्दिष्ट श्राद्ध किए बिना जो व्यक्ति पार्वण श्राद्ध ( श्राद्ध में मिलाना) करता है, उसका किया हुआ कार्य नहीं किया हुआ माना जाएगा और वह माता-पिता का घातक कहा गया है।

विजय अड़ीचवाल

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular