नई दिल्ली : अभी तक आपने कई तरह से पेड़-पौधे के पत्ते देखे होंगे पर ऐसा पत्ता कभी नहीं देखा होगा जिसको हाथ लगाने मात्र से मौत हो जाए। जी हां, आपको ऐसा सुनने में शायद अजीब लग रहा होगा परन्तु यह सच है।  दरअसल, एक वैज्ञानिक होते हुए साइंटिस्ट मरिना हर्ले कुछ साल पहले ऑस्ट्रेलियाई वर्षावनों पर शोध कर रही थीं उस दौरान उन्होंने कई सारे पौधों के बारे में जानने की कोशिश की साथ ही उन्होंने कई ऐसे खतरनाक पौधे भी देखे जिसके बारे में जानकार आप दंग रह जायेंगे।

Also Read : Lenovo ने भारत का पहला 13वीं जनरेशन का इंटेल कोर प्रोसेसर पॉवर्ड लैपटॉप किया लॉन्च

आपको बता दे कि जिस जंगल में वह शोध करने के लिए निकली थी वहां कई सारे ऐसे भी पौधे थे जो काफी खतरनाक और जहरीले थे। इन्हीं पौधों से बचने के लिए उन्होंने हाथों में वेल्डिंग ग्लव्स और बॉडी सूट पहना हुआ था, ताकि कोई भी हानिकारक पौधे उन्हें नुकसान नहीं पहुंचा पाए। परन्तु इसी बीच वह एक खतरनाक नए पौधे के संपर्क में आई जिसके बारें में आपको हम बता रहे है।

दरअसल, मरिना ने अपने हाथों में वेल्डिंग ग्लव्स पहनकर ही इस खतरनाक पौधे को हाथ लगाकर उसकी स्टडी करनी चाही, लेकिन उनका यह प्रयास भारी पड़ गया और दर्द से बेहाल मरिनाको तुरंत हॉस्पिटल जाना पड़ा हालांकि तब तक उनका पूरा शरीर लाल पड़ चुका था और  वे जलन के मारे जोर-जोर से चीख रही थीं।

Also Read : क्यों सदियों से मंदिर में कैद है ये देवता,भक्त तो क्या पुजारी भी नहीं करते दर्शन, रहस्य जान हैरान हो जाएंगे आप

उसके पश्चात जब वह ठीक हुई तब उन्होंने बाद में डिस्कवरी को एक  इंटरव्यू देते हुए बताया कि  जिम्पाई-जिम्पाई (Gympie -Gympie) नामक इस पौधे को छुने का दर्द असहनीय और ठीक वैसा ही था, जैसे किसी को बिजली का झटका देते हुए ऊपर से एसिड डाल दिया हो।

इसके अलावा पौधे की जानकारी देते हुए मरिना ने बताया कि इस पौधे को सबसे पहले वर्ष 1866 में जानकारी में लाया गया था। उसके बाद दूसरे विश्व युद्ध के दौरान इसे जानकरी में लाया गया उस दौरान पता चला कि कई सारे आर्मी अफसर भी इसका शिकार हो गए थे और कई सारे आर्मी अफसरों ने दर्द से परेशान होकर खुद को गोली मार ली थी। इसी घटनाओं के बाद से इस पर शोध किया गया और आखिरकार इसे ‘सुसाइड प्लांट’ का नाम दिया गया। जबकि इसका बायोलॉजिकल नाम डेंड्रोक्नाइड मोरोइड्स है।