इस मशहूर संस्था ने रणवीर सिंह को फिर न्यूड होने के लिए दिया बड़ा ऑफर! सामने आया लेटर

एक्टर रणवीर सिंह पिछले हफ्ते अपनी न्यूड तस्वीरों को लेकर खूब ट्रोल हुए थे.

एक्टर रणवीर सिंह पिछले हफ्ते अपनी न्यूड तस्वीरों को लेकर खूब ट्रोल हुए थे. इस मामले में उनके खिलाफ मुंबई में कई जगहों पर FIR भी दर्ज की गई थी. इतना ही नहीं देश के कई हिस्सों में उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी हुआ था. हालांकि रणवीर सिंह इस पूरे मामले पर कुछ भी नहीं बोले, वो खामोश रहे. लेकिन अब कुछ और खबरें आ रही हैं कि एक्टर को फिर से न्यूड होने का ऑफर मिला है.

रणवीर सिंह को इस बार न्यूड फोटोशूट के लिए किसी मैगजीन से नहीं बल्कि एक संस्था की तरफ से ऑफर किया दिया गया है. इस संस्था का नाम पीपल ऑफर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल (People for the Ethical Treatment of Animal/PETA). इस संस्था ने रणवीर सिंह को एक खत लिखकर यह ऑफर दिया है. जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा खत में लिखा गया है,”Hope you will ditch the pants for us, too”. इसके मतलब की बात करें तो पेटा ने रणवीर से पहले जैसा ही न्यूड फोटोशूट करवाने की गुज़ारिश की है.

 

Also Read – अनुच्छेद 370 की समाप्ति के तीसरे साल पर जश्न, पाक के नापाक इरादे आये सामने

पत्र में आगे लिखा है कि देश के सबसे प्रसिद्ध पशु अधिकार समूह, पेटा इंडिया की तरफ से नमस्कार. हमने आपका एक मैगज़ीन का फोटो शूट देखा और हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारे लिए भी पैंट उतार देंगे. जानवरों के लिए करुणा को बढ़ावा देने के लिए, क्या आप पेटा इंडिया के एक नग्न विज्ञापन में “ऑल एनिमल्स हैव द सेम पार्ट्स – ट्राई वेगन” टैगलाइन के साथ प्रदर्शित होने पर विचार करेंगे?पत्र में जानवरों को लेकर आगे कहा गया कि आप एक फिल्म भूमिका के लिए शाकाहारी बने. शाकाहारी खाने से जानवरों को मदद मिलती है, क्योंकि इंसानों की तरह ही वे भी दुखों से मुक्त होना चाहते हैं। लेकिन भोजन के लिए पाले गए जानवरों को उनकी माताओं से अलग कर दिया जाता है और सैकड़ों या हजारों लोगों द्वारा गंदी टोकरियों या पिंजरों या भीड़ भरे गोदामों में भेज दिया जाता है. वे दर्द निवारक दवाओं के बिना कटे-फटे हैं और उन सभी चीजों से वंचित हैं जो उनके लिए स्वाभाविक और महत्वपूर्ण हैं – जब तक कि एक बूचड़खाने में उनका जीवन समाप्त नहीं हो जाता. कई जानवर अभी भी जीवित हैं और भागने की कोशिश कर रहे हैं जबकि श्रमिकों ने उनका गला काट दिया.