धार के डैम में आई दरार, कई गांवों को कराया गया खाली, बढ़ा खतरा

धार-धामनोद मार्ग स्थित भारूड़पुरा के निचले ग्राम कोठिडा में नवनिर्मित मिट्टी के बांध लीकेज होने से दशहत का माहौल बना हुआ है। बांध से लगातार पानी बह रहा है।

धार-धामनोद मार्ग स्थित भारूड़पुरा के निचले ग्राम कोठिडा में नवनिर्मित मिट्टी के बांध लीकेज होने से दशहत का माहौल बना हुआ है। बांध से लगातार पानी बह रहा है। वहीं अब बांध के टूटने का खतरा सामने आ गया है। इसी को देखते हुए प्रशासन ने बांध के निचले क्षेत्र में बसे 18 गांवों को ऐहतियातन खाली करा लिया है और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर बने राहत शिविरों में भेज दिया है।

हालांकि इस मामले को प्रशासन और जन संसाधन विभाग ने गंभीरता से लेते हुए पानी का लीकेज रोकने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है। साथ ही दो हेलीकॉप्टर और सेना को तैयार रखा गया है। वहीं राजस्व विभाग ने बांध के निचले क्षेत्र में बसे हुए तीन गांव को अलर्ट जारी कर दिया है। शुक्रवार को सभी गांव को खाली करवाने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। जिस पानी के रिसाव को कल रोकने का दावा किया गया था वहां से फिर से पानी निकलना शुरू हुआ था। ग्रामीणों को स्कूल और अन्य सुरक्षित भवनों पर पहुंचाने के लिए काम तेजी से हो रह है।

Also Read – धार ज़िले के कारम डैम में स्थिति हुई नियंत्रित, कई अधिकारी आपदा प्रबंधन कार्य में जुटे

बता दें कि कारम नदी पर करीब 200 कराेड़ की लागत से बांध बनाया गया है। इसमें एक मजबूत सीमेंट के बांध के अलावा जल संग्रहण के लिए मिट्टी का बांध भी बनाया गया है। इसमें वर्तमान में करीब 295 मीटर के जल स्तर तक पानी भरा हुआ है। क्षेत्र में हुई वर्षा के कारण मानसून के मध्य सत्र में ही पानी भर गया है। एक लीकेज के कारण ताबड़तोड़ में प्रशासन और जल संसाधन विभाग हरकत में आया।