नई दिल्ली। आए दिन सोशल मीडिया पर कोई न कोई वीडियो वायरल होता है। इस बीच दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति सल्वा कीर मयार्डिट का एक वीडियो वायरल जमकर वायरल हो रहा है। जिसमे वह पेंट में पेशाब करते हुए नजर आ रहे है। दरअसल, पिछले महीने एक इवेंट में नेशनल एंथम के दौरान दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति सल्वा कीर मयार्डिट ने पेंट में पेशाब कर दी थी, ये वीडियो सामने आने के बाद छह पत्रकारों को जेल भेज दिया गया है।

इस वीडियो में देखा जा रहा है कि राष्ट्रपति कार्यक्रम में राष्ट्रगान के लिए खड़े थे। हालांकि यह वीडियो टेलीविजन पर कभी प्रसारित नहीं हुआ, लेकिन बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद 6 पत्रकारों को हिरासत में लिया गया है। सुरक्षा बलों को संदेह है कि राष्ट्रगान के दौरान हुई इस घटना का फुटेज इन्हीं पत्रकारों ने वायरल किया है। पत्रकारों की हिरासत को लेकर अंतरराष्ट्रीय संस्था ने आपत्ति जताई है।

Also Read – ये कैसी तैयारी? एयरपोर्ट पर प्रवासी मेहमानों का सम्मान, आम यात्री हो रहे परेशान

यूनियन के अध्यक्ष पैट्रिक ओयेट ने पत्रकारों के नाम कैमरामैन जोसेफ ओलिवर और मुस्तफा उस्मान, वीडियो एडिटर विक्टर लाडो, कंट्रीब्यूटर जैकब बेंजामिन और चेरबेक रूबेन और जोवल टूम्बे बताया है। वीडियो से सभी को संदेह हो गया कि राष्ट्रपति ने पैंट में ही पेशाब कर दिया है। दरअसल राष्ट्रपति सल्वा कीर मयार्डिट के दक्षिण सूडान के राष्ट्रपति बनने के बाद से देश में कोई चुनाव नहीं हुए हैं।

दक्षिणी सूडान (south sudan) का कानून कहता है कि जज के सामने पेश होने से पहले लोगों को अधिकतम 24 घंटे तक हिरासत में रखा जाता है। दिसंबर में सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो को लेकर पत्रकारों की जांच चल रही है। वहीं, पत्रकारों के हित के लिए कार्य करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (CPJ) ने इन पत्रकारों को फ़ौरन रिहा करने की माँग की है।