Posted inआर्टिकल, धर्म

राजा महाकाल का प्रोटोकॉल कौन तय करेगा?

नितिनमोहन शर्मा पंत प्रधान जी। आप आ रहे है। उज्जयिनी की धरा पर। राजा महाकाल के आंगन में। मृत्युंजय भगवान आशुतोष की शरण मे। उस लोक में आपका आगमन हो रहा है जिसे महाकाल लोक नाम दिया गया है। आपका स्वागत है। वंदन है। आत्मीय अभिनंदन है। आपके आगमन पर आपके लिए तय प्रोटोकॉल का […]