Homeइंदौर न्यूज़शिवराज सरकार को 18 वर्ष बाद अमर शहीद बिरसा मुंडा की याद...

शिवराज सरकार को 18 वर्ष बाद अमर शहीद बिरसा मुंडा की याद आई- कमलनाथ

भोपाल/जबलपुर – 15 नवंबर 2021
प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने आज अमर शहीद महानायक भगवान बिरसा मुंडा (Birsa munda) की जयंती के अवसर पर जबलपुर के कृषि महाविद्यालय ग्राउंड पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि आज हम सब उस अमर शहीद को याद करने के लिए एकत्रित हुए हैं, जिनकी 25 वर्ष की आयु में रांची की जेल में मृत्यु हो गई, जिन्होंने आदिवासियों के हक की लड़ाई लड़ी, आर्थिक शोषण के खिलाफ लड़ाई लड़ी, बंधुआ मजदूरी के खिलाफ लड़ाई लड़ी और अपनी शहादत दी, जिन्होंने समाज हित में काम कर

ALSO READ: JSW पेंट्स का 100 करोड़ बिक्री आंकड़ा पार

देशभर में नाम कमाया, ऐसे अमर शहीद महानायक भगवान बिरसा मुंडा को याद करने के लिए आज हम सब यहाँ एकत्रित हुए हैं। मध्यप्रदेश (MP) में आदिवासी (tribal people) वर्ग की आबादी एक करोड़ 65 लाख के करीब है और आज आदिवासी वर्ग सबसे पिछड़ा हुआ वर्ग माना जाता है, आज इनका भविष्य अंधकार में है। आदिवासी युवा जो समाज का, देश का व प्रदेश का नव निर्माण करेगा, वह आज अपने भविष्य को लेकर चिंतित है और यह चुनौती आज हमारे सामने है।

नाथ ने कहा कि आज 18 वर्ष बाद शिवराज (Shivraj) जी को अमर शहीद बिरसा मुंडा जी की याद आ रही है और आज उनकी जयंती भव्य पैमाने पर मना रहे हैं, इतने वर्षों से वो कहां थे? आज का भाजपा (BJP) का आयोजन सरकारी आयोजन है, ठेकेदारों से भव्य शामियाना-डोम लगवाकर, प्रशासनिक ठेकेदारों को भीड़ का टारगेट देकर यह आयोजन कर रहे हैं। इस तरह के आयोजनों से आदिवासी वर्ग का कभी सम्मान नहीं हो सकता है, कभी भला नही हो सकता है। भाजपा की सोच हमेशा रहती है कैसे वह हर वर्ग को गुमराह करें, उनका ध्यान मोड़े। हमारे शिवराज जी तो इतना झूठ बोलते हैं कि झूठ भी शर्मा जाता है।

हमें बिरसा मुंडा के साथ-साथ अमर शहीद महनायक टंट्या भील, रानी दुर्गावती, राजा शंकर शाह, रघुनाथ शाह, संग्राम शाह, भीमा नायक द्वारा भी समाज में जागरूकता लाने के लिए जो योगदान दिया है, जो संघर्ष किया है, उसे याद करते हुए, जो उनके अधूरे काम है उन्हें हमें आगे बढ़ाना है। मैं आपसे कहना चाहता हूं कि हमारी सरकार बनने पर हम सबसे ज्यादा प्राथमिकता आदिवासी समाज को देंगे क्योंकि यह उनका अधिकार है। हमारी पार्टी की वरिष्ठ नेता रही जमुना देवी, कांतिलाल भूरिया, वसंतराव उईके, दलबीर सिंह जैसे नेताओं ने कांग्रेस में रहकर आदिवासी वर्ग के हित में कई उल्लेखनीय कार्य किए हैं।

सभा के पश्चात कांग्रेस (Congress) विधायक संजय यादव के पुत्र के दुखद निधन पर 2 मिनट का मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। सभा में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रभारी सचिव सी पी मित्तल, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया, सांसद विवेक तंखा, सज्जन सिंह वर्मा, एनपी प्रजापति, कौशल्या गोटिया गरीबदास, तरुण भनोत, हिना कावरे, ओंकार मरकाम, लखन घनघोरिया आदि शामिल थे।

RELATED ARTICLES

Stay Connected

9,992FansLike
10,230FollowersFollow
70,000SubscribersSubscribe

Most Popular