शाहीन बाग: बेनतीजा रही वार्ता, रास्ते को लेकर अटकी बात

शाहीन बाग में CAA और NRC के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं से बातचीत की प्रक्रिया में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट की वार्ताकार साधना रामचंद्रन ने बातचीत की।

sadhana

नई दिल्लीः शाहीन बाग में CAA और NRC के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं से बातचीत की प्रक्रिया में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट की वार्ताकार साधना रामचंद्रन ने बातचीत की। उन्होंने प्रदर्शनाकारियों से कहा कि अगर रास्ता बंद रहा तो हम मदद नहीं कर पाएंगे। साधाना ने यह भी कहा कि वह मीडिया से बात नहीं करेंगी और केवल महिलाओं से ही बात करेंगी।

वहीं प्रदर्शनकारी महिलाओं ने वार्ताकार से कहा कि अगर हमें लिखित में सुरक्षा का आश्वासन नहीं मिलता तो बात खत्म। इस पर रामचंद्रन ने कहा कि क्या आप चाहते हैं, हम खुश होंगे? शाहीन बाग में एक खूबसूरत जगह खोजें, एक खूबसूरत बाग बने और वहां प्रोटेस्ट हो। क्या आपको ये आइडिया पसंद है? इस पर सारी महिलाओं ने साफ मना कर दिया।

शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों से बातचीत करते हुए साधना रामचंद्रन ने कहा कि उन्होंने कभी भी प्रोटेस्ट करने वालों को कभी पार्क जाने के लिए नहीं कहा। उन्होंने कहा कि गलतफहमी तोड़ती है। इसी के चलते बातचीत के दौरान प्रदर्शनकारी महिलाओं से वार्ताकार साधना रामचंद्रन के सामने कुछ मांगें रखीं।

इससे पहले शुक्रवार को शाहीनबाग में वार्ताकार और प्रदर्शनकारियों की बातचीत में सुरक्षा का मुद्दा अहम रहा है और जब सुरक्षा को लेकर बात रखी गई तो प्रदर्शनकारियों ने कहा कि दिल्ली पुलिस लिखित में आश्वासन दे। उन्होंने कहा कि सुरक्षा को लेकर हमें भरोसा नहीं है और अगर कुछ घटना होती है तो कमिश्नर से लेकर बीट कॉन्स्टेबल को जिम्मेदार माना जाए और बर्खास्त किया जाए।

साधना रामचंद्रन ने कहा, “एक बात बतायें दूसरी तरफ की सड़क किसने घेरी है?” तो प्रदर्शनकारियों की तरफ से आवाज आई हमने नहीं घेरी। इसके बाद वार्ताकार रामचंद्रन ने कहा कि अच्छा आप ये कहना चाहती हैं कि सड़क पुलिस ने घेरी है आपने नहीं!

इसके बाद एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि जब पुलिस ने सड़क ही आगे से बंद कर रखी है तो हमने इसे फिर अपनी सुरक्षा की वजह से बंद कर दी। वार्ताकार साधना ने अपनी बात तो आगे बढ़ाते हुए कहा कि अगर पुलिस के द्वारा बंद रास्ते खुल जाएंगे तो क्या रास्ते की दिक्कतें खत्म हो जाएगी? तो प्रदर्शनकारियों की तरफ से कहा गया कि पुलिस द्वारा बंद रास्ते खुलते हैं तो रास्ते का समाधान निकल जाएगा।