school

School Reopen in MP: मध्यप्रदेश में करीब 17 महीने बाद आज प्राथमिक विद्यालयों में बच्चों की चहल पहल देखने को मिली है। आज से छोटे बच्चों के स्कूल खोल दिए जा चुके हैं। बताया जा रहा है कि सरकारी व निजी 83 हजार 890 और सीबीएसई के करीब 40 हजार स्कूल शामिल है। ऐसे में अभिभावकों की सहमति से ही बच्चों को स्कूल भुलाया जा रहा है।

वहीं निजी स्कूलों में बस की सुविधा नहीं दी जा रही है ऐसे में अभिभावकों को ही बच्चों को छोड़ने आना पड़ेगा और लेने भी। ऐसे में स्कूलों में कोविड गाइडलाइन का पालन अनिवार्य होगा। जानकारी के मुताबिक, इसमें बच्चों को मास्क और सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन करना होगा। स्कूलों में सैनिटाइजर और हाथ धोने की व्यवस्था भी की जाएगी। सभी शिक्षकों और स्टाफ से टीकाकरण प्रमाणपत्र जमा करा लिया गया है। वहीं स्कूलों में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देना होगा।

बता दे, भोपाल में भी प्राइमरी स्‍कूलों को खोलने से पहले पूरी तैयारियां की जा चुकी हैं। इसको लेकर जिला शिक्षा अधिकारी नितिन सक्सेना ने रविवार को बीआरसी की बैठक भी ली है। ऐसे में उन्होंने स्कूलों में कोरोना गाइडलाइन का पालन करने के निर्देश दिए है। शिक्षकों का कहना है कि इस बार बच्चों के स्कूल पहुंचने पर सुरक्षा को लेकर उनकी भी जिम्मेदारियां बढ़ गई हैं, क्योंकि इस बार बहुत छोटे बच्चे हैं। इनका पूरा ध्यान रखना होगा।

इन बातों को रखना होगा ध्यान –

-स्कूलों में प्रार्थना सभा नहीं होगी।
-भोजन सभी बच्चे अकेले करेंगे।
– एक बेंच पर एक ही बच्‍चा बैठेगा।
-सभी के लिए मास्‍क लगाना अनिवार्य होगा।
– साफ-सफाई, सैनिटाइजेशन का पूरा ख्‍याल रखना होगा।