धर्मव्रत / त्यौहार

जन्माष्टमी: इस विधि विधान से करें श्री कृष्ण की पूजा, होगी हर मनोकामनाएं पूर्ण

आज देशभर में वैष्णव संप्रदाय के लोग कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार माना रहे हैं। वैसे तो इस बार दो दिन जन्माष्टमी मनाई जा रही है। इसकी तिथि 11 अगस्त को 9 बजे लगी थी जो आज 12 अगस्त को सुबह 11 बजे तक रहेगी। इस दिन भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना कि जाती है। साथ ही इस दिन उनकी प्रतिमा के खास किए जो उन्हें बेहद प्रिय है उसे रखने से वह बेहद प्रसन्न होते है।

हर साल भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जाता है। वहीं अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के समय के आधार पर कृष्ण जन्माष्टमी का व्रत दो दिनों तक मनाया जाता है। आज हम आपको बताने जा रहे है इस दिन श्री कृष्ण को किस तरह से प्रसन्न किया जा सकता है और किन किन चीज़ें से वह प्रसन्न होते है।

मान्यता है कि आज के दिन भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इसलिए आज के दिन सुबह उठते से ही सूर्य को नमस्कार कर पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख कर बैठें। साथ ही हाथ में जल और पुष्प लेकर संकल्प करें। उसके बाद भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति या चित्र स्थापित करें। वहीं विधि-विधान से पूजन करें। उसके बाद प्रभु कृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त करें।

इस दिन कई लोग व्रत भी रखते हैं तो यदि आप भी रख सकते हैं तो आप भी व्रत करें। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस दिन भक्तों की हर मनोकामना पूरी की जा सकती है। वहीं इस दिन जिन लोगो का चंद्र कमजोर है वह लोग इस दिन विशेष रूप से कृष्ण भगवान की पूजा करें। हिन्दू मान्यताओं में इस दिन सबसे अधिक कान्हा के बाल-गोपाल स्वरूप की पूजा की जाती है।