Raju Srivastava Health Update: बुखार की वजह से राजू श्रीवास्तव को दोबारा किया वेंटिलेटर पर शिफ्ट, परिवार ने दी जानकारी

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के जल्दी ठीक होने की फैंस दुआ कर रहे हैं. राजू श्रीवास्तव को अस्पताल में भर्ती हुए एक महीने पूरा होने वाला है. 10 अगस्त को हार्ट अटैक आने के बाद राजू श्रीवास्तव को दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था तब से कॉमेडियन को होश नहीं आया है

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के जल्दी ठीक होने की फैंस दुआ कर रहे हैं. राजू श्रीवास्तव को अस्पताल में भर्ती हुए एक महीने पूरा होने वाला है. 10 अगस्त को हार्ट अटैक आने के बाद राजू श्रीवास्तव को दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था तब से कॉमेडियन को होश नहीं आया है. उनकी हालत में उतार-चढ़ाव होते रहते हैं. राजू श्रीवास्तव धीरे-धीरे रिकवर कर रहे हैं. हाल ही में उन्हें वेंटिलेटर से हटा दिया गया था मगर फिर से बुखार आने के बाद उन्हें वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक राजू श्रीवास्तव की तबीयत में सुधार होने के बाद उन्हें मंगलवार को वेंटिलेटर से हटा दिया गया था. कुछ समय पहले उनके हाथ-पैर में मूवमेंट भी देखा गया था. वह ट्रीटमेंट का रिस्पॉन्स भी कर रहे थे जिसके बाद उन्हें वेंटिलेटर से हटाने का फैसला लिया गया था.

रिपोर्ट के मुताबिक राजू को 100 डिग्री बुखार आने के बाद दोबारा वेंटिलेटर पर शिफ्ट कर दिया गया है.  दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक राजू श्रीवास्तव 80-90 प्रतिशत तक खुद नेचुरल ऑक्सीजन ले रह हैं. फैंस, फैमिली और उनके दोस्त उनके जल्दी ठीक होने की कामना कर रहे हैं. जॉनी लिवर, सुनील पाल और कई कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव को देखने के लिए अस्पताल गए थे.

सोशल मीडिया पर दिया हेल्थ अपडेट
राजू श्रीवास्तव का परिवार उनके सोशल मीडिया अकाउंट से  उनकी हेल्थ के बारे में फैंस को बता रहें हैं. 25 अगस्त को उन्होंने एक पोस्ट शेयर किया था. जिसमें लिखा था- मेरे पिता श्री राजू श्रीवास्तव जी की हालत स्थिर है और वह धीरे-धीरे ठीक हो रहे हैं. इस समय वेंटिलेटर पर हैं.  आप सभी से अनुरोध है कि उनके लिए अपन प्यार और प्रार्थना जारी रखें.

बता दें 10 अगस्त को वर्कआउट करते दौरान राजू श्रीवास्तव को हार्ट अटैक आ गया था. जिसके बाद उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उसी दिन उनकी एंजियोप्लास्टी हुई थी.