PM मोदी ने नेहरू का जिक्र ऐसे किया कि कांग्रेस के तोते उड़ गए!

Prime Minister Narendra Modi on Jawaharlal Nehru

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर हुई चर्चाओं पर सरकार का पक्ष रखा। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन की शुरुआत में स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि इतने लंबे समय तक उनकी आवाज ने देश को भावनाओं से भर दिया. उन्होंने 36 भाषाओं में गीत गाए हैं जो राष्ट्र की एकता के लिए भी प्रेरक उदाहरण है।

साथ ही उन्होंने संसद के सदस्यों का राष्ट्रपति के भाषण पर अपने विचार रखने के लिए आभार भी व्यक्त किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने योग का विरोध किया, योग का मजाक बनाया उन्होंने आगे कहा कि हम युवाओं से फिट इंडिया की बात करते हैं जबकि कांग्रेस ने इसका भी विरोध किया।

इसके बाद PM मोदी ने महंगाई पर कांग्रेस को घेरने के लिए देश के पहले प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू(Prime Minister Narendra Modi on Jawaharlal Nehru) का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को हमेशा ये शिकायत रहती है कि मैं नेहरू जी का जिक्र नहीं करता, इसलिए आज के भाषण में नेहरू जी से जुड़ी सभी बातें होंगी। ऐसा कहने के बाद वो महंगाई से लेकर देश की एकता तक नेहरू के भाषणों का इस्तेमाल कर कांग्रेस पर तंज कसते रहें।

राहुल गाँधी द्वारा की गई टिप्पणी पर नेहरू का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मैं आपसे फिर कहता हूं कि आजाद हिंदुस्तान है आजाद हिंदुस्तान की सालगिरह हम मनाते हैं, लेकिन आजादी के साथ जिम्मेदारी होती है उन्होंने कहा कि जिम्मेदारी खाली हुकूमत की नहीं, जिम्मेदारी हर एक आजाद शख्स की होती है उन्होंने ये भी कहा कि अगर आप आजादी को महसूस नहीं करते और आप आजादी के मायने नहीं समझते, तो आप आजादी को बचा नहीं सकते हैं।

साथ ही महंगाई को लेकर भी उन्होंने नेहरू का जिक्र करते हुए कहा कि हम महंगाई और संकट में दौर में देश के साथ खड़े हैं जबकि ऐसे हालातों में नेहरू जी ने हाथ खड़े कर दिए थे।

इसी के साथ उन्होंने बिना नाम लिए कांग्रेस सांसद राहुल गाँधी पर तंज भी कसा प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ लोग बोलकर गायब हो जाते हैं, और झेलना इन बेचारों यानी कांग्रेस के नेताओं को पड़ता है। उनके इतना कहते ही वहां मौजूद सत्ता पक्ष के सभी सांसद हंस रहे थे। आपको बता दे बजट सत्र(budget session 2022) की शुरुआत से पहले देश के राष्ट्रपति द्वारा संसद के दोनों सदनों के समक्ष अभिभाषण दिया गया था। और इसी अभिभाषण पर लोकसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा में बोलते हुए राहुल गांधी(Rahul Gandhi) ने कहा था कि केंद्र सरकार ने दो भारत बना दिए हैं। उन्होंने कहा था कि एक भारत अमीर लोगों का हैं और दूसरा भारत गरीब लोगों को।

आगे उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि देश के लिए मोदी सरकार का दृष्टिकोण एक राजा की तरह है जो शासन के लिए डंडा चलाता है न कि वार्ता एवं समझौते का रास्ता अपनाता है। उन्होंने कहा था कि सरकार राज्यों की आवाज को दबाती हैं और डंडे के दम पर सरकार चलाने के प्रयास किये जाते हैं।