MP Government ने कैबिनेट मीटिंग के समय PM मातृ वंदना योजना (PM Matru Vandana Yojana )2.0 को प्रदेश के सभी जिलों में संशोधित दिशा-निर्देशों के मुताबिक संचालित करने को अपनी मंजूरी दे दी है. अब दूसरे प्रसव के वक़्त लड़की होने पर 6 हजार रुपये की धनराशि दी जाएगी.

मध्य प्रदेश सरकार (MP Government) ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (PM Matru Vandana Yojana) के नए स्वरूप को स्वीकृति दे दी है. इसके अंतर्गत अब किसी परिवार में यदि दूसरी बेटी का जन्म होगा, तो उसे 6 हजार रुपये दिए जाएंगे. कैबिनेट की मीटिंग के बाद इसमें लिए गए निर्णय की सूचना गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) ने शेयर की.

6,000 रुपये देने का ऐलान

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत प्रथम प्रसव वाली पात्र गर्भवती और धात्री माता को 5 हजार रूपए की धन राशि दिए जाने का नियम था. कैबिनेट ने स्कीम के नए दिशा-निर्देशों में प्रथम प्रसव पर 5 हजार रूपए के साथ द्वितीय प्रसव पर लड़की के जन्म लेने पर महिला को 6 हजार रूपए की धनराशि दिए जाने के सुझाव को स्वीकृति दे दी है. इसके अतिरिक्त मीटिंग में मिशन शक्ति के ‘सामर्थ्य’ घटक में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना 2.0 प्रदेश के सभी जिलों में रूपान्तरित दिशा-निर्देशों के अनुरूप संचालित करने की मंजूरी दे दी गई है.

Also Read – MP Weather: कड़ाके की ठंड से कांप उठा एमपी, इन जिलों में हो सकती है बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

कैबिनेट मीटिंग में लिए गए ये बड़े निर्णय

कैबिनेट बैठक में लिए गए अन्य आवश्यक फैसलों की बात करें, तो डिसाइड किया गया है कि ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच निर्विरोध कार्यकारी हुए हैं, उन्हें 5 लाख रूपए सरपंच पोस्ट के लिए वर्तमान निर्वाचन और पिछला निर्वाचन भी लगातार निर्विरोध रूप से होने पर 7 लाख रूपए दिए जाएंगे. जबकि ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच और सभी पंच निर्विरोध निर्वाचित हुए, उन्हें भी 7 लाख रूपए दिए जाने का निर्णय लिया गया.

ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच और सभी पंच महिला निर्वाचित हुए हैं उन्हें 12 लाख रुपये, पंचायत में सरपंच व पंच के सभी पदों पर महिलाओं का निर्वाचन निर्विरोध होने पर 15 लाख रुपये दिए जाने का निर्णय लिया गया है. गृह मंत्री ने बताया कि इन पुरस्कार को देने के लिए 55 करोड़ 60 लाख रुपये का प्रावधान वित्त वर्ष 2022-23 के बजट में किया गया है.

राज्य ने CM Shivraj को दिया उपनाम

राज्य की बेटियों के लिए अपना खजाना खोलने वाले ‘मामा’ मतलब मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की बात करें तो उन्हें ये उपनाम दिया गया है. इस नाम से उन्हें प्रदेश ही नहीं, अपितु पूरा देश जानता है. जाहिर है कि बेटियों के लिए इतनी प्रभावशाली स्कीम लाने वाले ऐसे शख्स तो पूरा प्रदेश मामा कहेगी. बता दें कि एक बार मंच पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मामा का काफी स्पेशल और अलग मतलब बताया.

जनता उनको Mama क्यों कहती है

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मामा के नाम से मध्यप्रदेश के साथ-साथ पूरे देश में विख्यात हैं.एक बार मीडिया से वार्ता करते हुए शिवराज ने खुद ये बताया था कि जनता उनको मामा क्यों कहती है. एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने बताया था कि लोग उनको मामा इसलिए बुलाते हैं, क्योंकि मामा से बेटियों को 2 गुना प्यार प्राप्त होता है क्योंकि मामा कहने पर हम दो बार मां कहते हैं यानी मामा. इसी कारण से उन्हें भी मामा कहा जाने लगा.