नेशनल हेराल्ड केस : यंग इंडिया का कार्यालय किया गया सील, मल्लिकार्जुन खड़गे की उपस्थिति में होगी छापेमारी

हेराल्ड बिल्डिंग के कार्यालय को सील करने से पहले, कार्यालय प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे के द्वारा छानबीन की कार्यवाही में सहयोग नहीं किया गया था, जिसके बाद उक्त यंग इण्डिया के ऑफिस को सील कर दिया गया था। जानकारी के अनुसार ईडी के द्वारा मल्लिकार्जुन खड़गे को समन भेज कर जाँच में सहयोग देने के निर्देश दिए गए हैं।

नेशनल हेराल्ड केस में प्रवर्तन निदेशालय (ED) के द्वारा लगातार कार्यवाही की जा रही है। जहाँ कई बड़े नेताओं से इस संबंध में ईडी के द्वारा पूछताछ की गई, वहीं अब हेराल्ड बिल्डिंग के कार्यालय (Office) को ईडी के द्वारा सील कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार ईडी के द्वारा उक्त यंग इण्डिया कम्पनी के ऑफिस में छानबीन के इरादे से पहुंचे थे, परन्तु वहाँ कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं के द्वारा कार्यवाही में सहयोग ना देने और व्यवधान उत्पन्न करने की वजह से उक्त ऑफिस को सील कर दिया गया था।

Also Read-कॉमनवेल्थ गेम्स : तूलिका ने बढ़ाया देश का मान, जूडो में जीता सिल्वर मेडल, दो वर्ष की थीं जब हुई थी पिता की हत्या

मल्लिकार्जुन खड़गे की उपस्थिति में होगी छापेमारी की कार्यवाही

प्रवर्तन निदेशालय (ED) के द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार हेराल्ड बिल्डिंग के कार्यालय को सील करने से पहले, कार्यालय प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे के द्वारा छानबीन की कार्यवाही में सहयोग नहीं किया गया था, जिसके बाद उक्त यंग इण्डिया के ऑफिस को सील कर दिया गया था। जानकारी के अनुसार ईडी के द्वारा मल्लिकार्जुन खड़गे को समन भेज कर जाँच में सहयोग देने के निर्देश दिए गए हैं। खड़गे की उपस्थिति में अब यंग इंडिया के ऑफिस में लगाई गई सील हटा कर जाँच पड़ताल की जाएगी।

Also Read-मध्य प्रदेश : भोपाल में चिकित्सा शिक्षा विभाग का क्लर्क निकला करोड़ों का आसामी, आँखों में धूल झोंकने के लिए चलता था टू व्हीलर से

सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी से हो चुकी है लम्बी पूछताछ

गौरतलब है कि नेशनल हेराल्ड केस में कांग्रेस पार्टी सुप्रीमो सोनिया गाँधी और उनके पुत्र कांग्रेस के राष्ट्रिय महासचिव राहुल गाँधी से प्रवर्तन निदेशालय (ED) के द्वारा लम्बी पूछताछ की जा चुकी है। सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी से ईडी की यह पूछताछ कई घंटों तक चली थी, जिसके लिए उनको दो-दो बार पूछताछ के लिए बुलाया गया था। ज्ञातव्य है कि सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी दोनों ही यंग इण्डिया कम्पनी के अधिकतम शेयर्स के मालिक हैं। सोनिया और राहुल से हुई ईडी की इस लम्बी पूछताछ का कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं के द्वारा कड़ा विरोध किया गया था।