इंदौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इन्दौर नवाचारों की भूमि है। इन्दौर ने अपनी पहचान स्वच्छता के शिरोमणी के रूप में स्थापित की है। इन्दौर नगर निगम के युवा और ऊर्जावन महापौर के नेतृत्व में इन्दौरवासियों ने एक और नवाचार किया है। इन्दौर में हर घर जल पहुँचाने के लिए अब सौर ऊर्जा का उपयोग किया जाएगा। इन्दौर में नर्मदा जी का जल अभी परंपरागत बिजली के माध्यम से घरों में पहुँचाया जाता है। अब सौर ऊर्जा (ग्रीन एनर्जी) से यह कार्य होगा। इसके लिए जलूद में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि खुशी की बात यह है कि पब्लिक बांड इश्यू कर ग्रीन एनर्जी का उत्पादन किया जाएगा। यह इन्दौर का अद्भुत प्रयोग है जो इन्दौर ही कर सकता है। मुख्यमंत्री चौहान ने इन्दौरवासियों से इस नवाचार के क्रियान्वयन में सहयोग की अपील करते हुए कहा कि हमें “अपना इन्दौर–सदैव प्रथम” के सम्मान को बरकरार रखना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल में निवास कार्यालय पर मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में यह बात कही।

Also Read : Himachal Pradesh : एक बस ड्राइवर के बेटे ने थामा हिमाचल का स्टयेरिंग, पढ़ें सुखविंदर सिंह सुक्खू की संघर्ष कहानी

उल्लेखनीय है कि इन्दौर के हर घर में नर्मदा जल पहुँचाने में जलूद पम्पिंग स्टेशन की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस स्टेशन से सौर ऊर्जा से संचालन करने के लिए इन्दौर नगर निगम द्वारा आई.एम.सी. ग्रीन बाँड पब्लिक इश्यू किया जा रहा है। इस प्रकार की पहल करने वाला, इन्दौर नगर निगम देश का पहला नगरीय निकाय होगा। इससे इन्दौर को कार्बन क्रेडिट मिलने में सहायता मिलेगी। कार्बन उत्सर्जन शून्य कर ग्रीन एवं क्लीन मध्यप्रदेश बनाने की दिशा में यह पहल महत्वपूर्ण कदम है।