संगीत के जादूगर खय्याम हुए खामोश, बॉलीवुड को याद रहेगा अहम योगदान

भारतीय सिनेमा के दिग्गज संगीतकार खय्याम का सोमवार रात मुंबई में निधन हो गया उन्होंने कई फिल्मों को एक से बढ़कर एक धुनें दीं।

khayyam sahab-min

भारतीय सिनेमा के दिग्गज संगीतकार खय्याम का सोमवार रात मुंबई में निधन हो गया। उन्होंने कई फिल्मों को एक से बढ़कर एक धुनें दीं। खय्याम को पिछले दिनों सीने के संक्रमण और निमोनिया की दिक्कत के बाद उन्हें 28 जुलाई को मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह 92 वर्ष के थे। उन्होंने मुंबई के सुजोय अस्पताल में आखिरी सांस ली थी। उनके निधन से फिल्म जगत से लेकर राजनीति गलियारे तक शोक की लहर है इस घटना को लेकर सभी स्टार्स और राजनीति की दुनिया से ढेरों रिएक्शन आने शुरू हो गए।

खय्याम की मौत के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा- सुप्रसिद्ध संगीतकार खय्याम साहब के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। उन्होंने अपनी यादगार धुनों से अनगिनत गीतों को अमर बना दिया। उनके अप्रतिम योगदान के लिए फिल्म और कला जगत हमेशा उनका ऋणी रहेगा। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके चाहने वालों के साथ हैं।

खय्याम के निधन से लता मंगेशकर काफी भावुक दिखीं और उन्होंने कई सारे ट्वीट किए। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘महान संगीतकार और बहुत नेक दिल इंसान खय्याम साहब आज हमारे बीच नहीं रहे। ये सुनकर मुझे इतना दुख हुआ जो मैं बयान नहीं कर सकती। खय्याम साहब के साथ संगीत के एक युग का अंत हुआ है मैं उनको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पण करती हूं।’

सैक्रेड गेम्स के लेखक वरुण ग्रोवर ने अपने ट्वीट में खय्याम साहब की एक नज्म शेयर करते हुए लिखा, “अलविदा खय्याम साहब। आपके संगीत ने बाकी सबसे शानदार संगीत की तरह हमारी मदद की है, उस कायनात को समझाने में जिसे बयां नहीं किया जा सकता. शुक्रिया।”

लेखक जावेद अख्तर ने भी ट्वीट करके शोक व्यक्त किया और लिखा, “महान संगीतकार खय्याम साहब गुजर गए उन्होंने कई एवरग्रीन क्रिएशन्स दी है, लेकिन एक जो उन्हें अमर बना देती है वो है, “वो सुबह कभी तो आएगी।”

बता दें, ‘फुटपाथ’, ‘फिर सुबह होगी’, ‘शोला और शबनम’, ‘कभी कभी’, ‘त्रिशूल’, ‘खानदान’, ‘नूरी’, ‘बाजार’, ‘उमराव जान’, ‘रजिया सुल्‍तान’, ‘आहिस्‍ता आहिस्‍ता’ और ‘दर्द’ जैसी तमाम फिल्‍मों में उन्‍होंने अपना जादुई संगीत दिया। उनका पूरा नाम मोहम्मद जहूर खय्याम हाश्मी था। उन्होंने साल 1953 में फिल्म फुटपाथ से अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी। उनको अपने बेहतरीन काम के लिए कई अवॉर्ड्स से भी नवाजा गया है। खय्याम को साल 2007 में ‘संगीत नाटक एकेडमी’ अवॉर्ड मिला था। इसके बाद साल 2011 में भारत सरकार द्वारा ‘पद्म भूषण’ सम्मान मिला था।