गुना। बीजेपी नेता और मध्यप्रदेश सरकार के पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया (Mahendra Singh Sisodia) के एक वीडियो से विवाद खड़ा हो गया है। गुना जिले की राघौगढ़ नगर पालिका चुनाव में प्रचार के दौरान मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा, ‘और देखो भैया। जो भी कांग्रेसी लोग हों वो धीरे-धीरे करके चुपचाप सरक के आ जाओ। क्योंकि,  2023 में भी सरकार भाजपा की बन रही है। फिर देख लेना मामा का बुलडोजर तैयार खड़ा है।

बता दे कि मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया को ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) का करीबी माना जाता है। जबकि सिंधिया और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बीच की खींचतान किसी से छिपी नहीं है। राघौगढ़ दिग्विजय का गृहनगर होकर राजनीति की पहली सीढ़ी भी रहा है। मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ ही भाजपा में शामिल हो गए थे। अब वे अपने अंदाज में वहां के कांग्रेसियों को भाजपा में आने की सलाह दे रहे हैं।

Also Read – बीजेपी विधायक के बेटे ने युवती को शादी का झांसा देकर किया दुष्कर्म, पीड़िता ने ये भी लगाया आरोप

बता दे कि राघोगढ़ नगर पालिका चुनाव (Raghogarh Municipality Election) में आज 63 मतदान केंद्रों पर मतदान होगा। वोटिंग को लेकर प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। जिला प्रशासन ने 600 से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया है। बता दें, राघोगढ़ नगर पालिका पर अभी तक कांग्रेस का कब्जा रहा है। लेकिन, इस बार बीजेपी ने भी बड़े स्तर पर प्रचार प्रसार किया है। कई मंत्रियों को चुनावी मैदान में प्रचार के लिए कूदना पड़ा।

मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया के बयान से स्थानीय कांग्रेस नेताओं में रोष है। उनका कहना है कि सिसोदिया बखूबी जानते हैं कि यदि वे दिग्विजय सिंह के गढ़ में उनके समर्थकों की घेराबंदी करेंगे, तो निश्चित तौर पर सिंधिया के कोटे में उनके अंक बढ़ेंगे, लेकिन जिस तरह की भाषाशैली का उपयोग उनके द्वारा किया गया, वह सही नहीं है। बुलडोजर की धमकी देना किसी भी हद तक ठीक नहीं है। इसकी शिकायत चुनाव आयोग में की जाएगी।

कांग्रेस कमेटी के मीडिया चेयरमैन केके मिश्रा ने कहा कि मंत्री जी, आपका बुलडोजर अंग्रेजों से बड़ा नहीं है, हम उनसे लड़े हैं। गुना जिला कांग्रेस प्रमुख हरिशंकर विजयवर्गीय ने पलटवार करते हुए कहा कि मंत्री की टिप्पणी ने भाजपा की छवि को खराब किया है। विजयवर्गीय ने कहा, “उन्हें अपनी भाषा में संयम बरतना चाहिए। राघौगढ़ की जनता 20 जनवरी को चुनाव में उन्हें करारा जवाब देगी।