breaking newsmorescroll trendingtrendingअन्य

अंतरिक्ष से भारत की ओर बढ़ रहा बड़ा ख़तरा, बस कुछ घंटे बाकी…

नई दिल्ली: कोरोना महामारी, तूफ़ान, भूकंप, सुनामी इन सभी आपदाओं के बीच धरती पर एक और प्राकृतिक आपदा आने वाली है। इसी बीच खबर आ रही है कि अंतरिक्ष की गहराइयों से धरती की ओर एक बहुत बड़ा उल्कापिंड आ रहा है। इस उल्कापिंड की गति इतनी ज्यादा है कि अगर धरती पर गिरे तो कई किलोमीटर तक तबाही मचा सकता है। अगर समुद्र में गिरेगा तो बड़ी सुनामी पैदा कर सकता है।

इस उल्कापिंड के धरती की तरफ आने में बस कुछ ही घंटे बाकी हैं। यह उल्कापिंड 1017 फीट लंबा है, यानी दिल्ली के कुतुबमीनार से चार गुना और अमेरिका के स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से तीन गुना बड़ा है।

इसकी रफ़्तार की बात करें तो इसकी गति 13 किलोमीटर प्रति सेकेंड है. यानी करीब 46,500 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार। ये आज यानी 24 जून 2020 की दोपहर 12.15 बजे पृथ्वी के करीब से गुजरेगा।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का अनुमान है कि यह धरती से करीब 37 लाख किलोमीटर दूर से निकलेगा लेकिन अंतरिक्ष विज्ञान में इस दूरी को ज्यादा नहीं माना जाता। हालांकि, धरती को इस उल्कापिंड से कोई खतरा नहीं है।

नासा के वैज्ञानिक उन सभी एस्टेरॉयड्स को धरती के लिए खतरा मानते हैं जो धरती से 75 लाख किलोमीटर की दूरी के अंदर निकलते हैं। जून में एस्टेरॉयड गुजरने की यह तीसरी घटना है। पहला एस्टेरॉयड 6 जून को धरती के बगल से गुजरा था. यह 570 मीटर व्यास का था। यह धरती के बगल से 40,140 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से गुजरा था. इसका नाम 2002एनएन4 था।

इसके बाद 8 जून के एस्टेरॉयड 2013एक्स22 एस्टेरॉयड धरती के करीब से गुजरा था. इसकी गति 24,050 किलोमीटर प्रतिघंटा थी। यह धरती से करीब 30 लाख किलोमीटर दूर से निकला था।