स्मृति शेष… भाव, साफ हृदय व्यक्तित्व थे महेंद्र भैया…

चरण स्पर्श के बाद एक जोरदार हाथ उनका मेरी पीठ पर एक आवाज का अहसास व सुखद अनुभव करा गया। उन्होंने आदरणीय भाभी जी से कहा पहचाना इसे यह वही है जिसने विनीत की विवाह पत्रिका में आमंत्रितों के सुंदर अक्षरों में नाम लिखे थे।

निशिकांत मंडलोई। आज दोपहर में खबर मिली, मन को व्यथित कर गई। खबर थी नईदुनिया अखबार के सहभागी रहे महेंद्र सेठिया जी के शाश्वत सत्य में विलीन होने की। महेंद्र भैया से मेरा सन 1990 से पहले भी कई बार मिलना हुआ उन दिनों मैं खंडवा से कभी कभी जरूरी खबर लेकर आता था तब। 1990 में आदरणीय अभय छजलानी जी की सहमति के बाद महेंद्र (भैया) सेठिया जी ने मुझे कार्यालयीन साथी के रूप में नियुक्त किया तब से मेरे सेवाकाल मार्च 2012 तक अमूमन हर दिन नईदुनिया के सेवादार की हैसियत से मिलना होता ही रहा।

उसके बाद मेरी उनसे अंतिम बार मुलाकात कनाड़िया स्थित सेठिया परिवार द्वारा संचालित शिक्षण संस्थान शिशुकुंज के पास ही ओएसिस टाउनशिप में श्वेतांम्बर जैन समाज के नवनिर्मित मंदिर में भगवान की प्रतिमा प्रतिष्ठा महोत्सव के दौरान 21 जनवरी 2019 को समय था प्रातः 9 बजकर 15 मिनट के करीब का, हुई। उस दिन वे अकेले नहीं सपत्नीक थे। उनके भाई श्री प्रेम सेठिया भी साथ थे। उन्होंने मुझसे कहा था यहाँ कैसे। तब मैंने उन्हें बताया कि इस कार्यक्रम की रिपोर्टिंग के लिए, तो बहुत ही खुश हुए थे। चरण स्पर्श के बाद एक जोरदार हाथ उनका मेरी पीठ पर एक आवाज का अहसास व सुखद अनुभव करा गया। उन्होंने आदरणीय भाभी जी से कहा पहचाना इसे यह वही है जिसने विनीत की विवाह पत्रिका में आमंत्रितों के सुंदर अक्षरों में नाम लिखे थे।

भाभी जी भी खुश हो गए और बोले अरे हाँ और भी याद आ रहा है मेरी उत्सुकता बढ़ी और बोला क्या। अरे भूल गए आपने अपनी सुंदर लिखावट में एक डायरी (इसमें चुनिंदा शायरी जिसका संग्रह स्वयं महेंद्र भैया ने किया था) लिखी थी आपके भैया के कहने पर। वह उन्होंने मेरे विशेष दिन पर भेंट की थी। मेरी खुशी परवान पर थी। महेंद्र भैया से हाल जानने पर वे बोले अब तबियत ठीक नहीं रहती है इसलिए कहीं आना जाना कम ही होता है। बस यही मुलाकात उनसे अंतिम थी वैसे उन्होंने कहा था कार्यक्रम से निपट कर घर आना। पर फिर कभी उनसे मिलने का अवसर नहीं मिला। मन तो बहुत करता था जब कभी हमारे साथी श्री पवन गंगवाल जी से व श्री प्रकाश जैन जी मुलाकात होती तो विचार करते थे कि चलो एक दिन महेंद्र भैया से मिल आते हैं लेकिन यह कभी सम्भव नहीं हो पाया और आज उनकी खबर मिलने पर बरबस ही वह पंक्तियां याद आ गई
,, काल करे सो आज कर, आज करे सो अब,
पल में परलय होत है बहुरि करेगा कब।,,

अगर उनके व्यक्तित्व की बात करूं तो मैंने अपनी अल्प बुद्धि से इतना ही जाना कि वे एक सरल हृदय, व्यवहारिक व अच्छी सोच के धनी थे। मुझे याद है जब उन्होंने मुझे कार्य पर रखा था तो उन्होंने मुझसे पूछा था रहने की क्या व्यवस्था। तब मेरे मन की बात यही मैंने उनसे कही थी,, आपने काम दिया, अब आगे की व्यवस्था तो मेरी जिम्मेवारी बनती है। फिर भी उन्होंने कहा था, तकलीफ मत उठाना बता देना। यह था उनका व्यक्तित्व।

Must Read- महेंद्र सेठिया नईदुनिया को तराशने वाले दूसरी पीढ़ी के नायक थे…

एक बार उनके मन में अपनी पत्नी को किसी अवसर विशेष पर कुछ अलग भेंट देने का विचार आया। उनके पास कुछ चुनिंदा शायरी का संग्रह जिन्हें टाइप करवा कर प्रिंट निकलवाकर एक डायरी में पेस्ट करवाने का विचार आया। उस समय हमारे साथी श्री सुल्तान खान को उन्होंने कहा कि इसे डायरी में पेस्ट करवा देना। तब खान साहब ने ही उन्हें सुझाव दिया था कि मंडलोई से लिखवा लीजिए सुंदर हो जाएगा। और जब वह मैंने लिखी तो उसमें स्केच के साथ दो पेज शायरी भी मैंने अपनी तरफ से लिखी थी जो उस डायरी के प्रथम और द्वितीय पेज थी। उनका उस वक्त शाबासी देने का जो अंदाज था वह सिर्फ मैं ही अनुभव कर सकता हूं। उसके बाद उनके बेटे विनीत सेठिया जी के विवाह अवसर पर छपी निमंत्रण पत्रिकाओं पर मुझसे उन्होंने आमंत्रितों के नाम लिखवाए थे। वे मेरी लिखावट की बहुत कद्र करते थे, यह अलग बात है कि मेरी लिखावट इतनी अच्छी नहीं थी पर उन्होंने मुझे इस लायक समझा। यही मेरे लिए उपलब्धियों के पल थे।

महेंद्र भैया के बारे में अगर मुझे कुछ कहना है तो बस इतना ही कि ,,, ना भूतो ना भविष्यते,,, वे सिर्फ वे ही थे उनका कोई सानी नहीं।
ऐसे व्यक्तित्व को मेरा बार बार प्रणाम व श्रद्धा सुमन अर्पित।

उनकी अंतिम यात्रा उनके निवास से शुक्रवार 19 अगस्त 22 को सुबह 9 बजे निकलेगी। रीजनल पार्क मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार होगा।

निशिकांत मंडलोई
पत्रकार व फोटोग्राफर
इंदौर