Bhopal। सामाजिक सरोकारों और बाल अधिकारों पर लंबे समय से काम कर रही संस्था विकास संवाद ने बाल अधिकारों पर लेखन के लिए चार अवार्ड की घोषणा की है। बाल अधिकारों पर वर्ष 2022 के दौरान लिखी गई सामग्री पर यह पुरस्कार दिए जाएंगे। बाल अधिकार एक महत्वपूर्ण मसला है। भारत संयुक्त राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय बाल अधिकार समझौते का एक प्रमुख हस्ताक्षरकर्ता है, इसके तहत भारत को देश के बच्चों को बाल अधिकारों को सुनिश्चित करना है।

Read More : मार्क्स एंड स्पेंसर ने आज इंदौर के फीनिक्स सिटाडेल मॉल में अपना 96वां स्टोर का किया उद्घाटन

पिछले तीस सालों में देश में बच्चों की स्थिति सुधरी है, इसमें मीडिया की भी प्रमुख भूमिका है। विकास संवाद के सचिन कुमार जैन ने बताया कि हर बच्चे को उसका अधिकार मिले, इसमें मीडिया की एक प्रभावी भूमिका है, इस भूमिका के प्रोत्साहन के नजरिए से यह अवार्ड शुरू किए गए हैं। अवार्ड के संयोजक राकेश मालवीय ने बताया कि वर्ष 2022 के दौरान बाल अधिकारों से जुड़े किसी भी पक्ष से संबंधित रिपोर्ट को इसके लिए 30 जनवरी तक भेजा जा सकता है।

Read More : जोशीमठ मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करने से किया इनकार, जानिए वजह

बाल अधिकारों पर प्रकाशित किसी खबर को पत्रकार की तरफ से अन्य लोग भी नामांकित कर सकते हैं। पुरस्कारों का चयन वरिष्ठ मीडिया विशेषज्ञों की एक चयन समिति करेगी। इस चयन समिति में वरिष्ठ पूर्व संपादक चंद्रकांत नायडू, एनके सिंह, राजेश बादल, श्रावणी सरकार शामिल हैं। हर अवार्ड के तहत 25 हजार रुपए की राशि, ट्राफी और प्रमाण पत्र दिया जाएगा। अधिक जानकारी विकास संवाद की वेबसाइट www.vssmp.org से ली जा सकती है। विकास संवाद इससे पहले 14 साल तक मीडिया फैलोशिप कार्यक्रम संचालित करता रहा है। संस्था सामाजिक सरोकारों पर पिछले बीस सालों से निरंतर जमीनी काम कर रही है।