नई दिल्ली। देश की बेटियां भी किसी से कम नहीं यह एक बार फिर साबित हो गया है। पहली बार भारतीय वायु सेना की महिला फाइटर पायलट देश के बाहर होने वाले हवाई युद्धाभ्यास के लिए भारतीय दल का हिस्सा होंगी। जापान में होने वाले हवाई युद्धाभ्यास (aerial maneuvers in japan) के लिए पहली बार भारतीय वायुसेना की तीन में से एक महिला फाइटर को भारतीय दल में शामिल किया गया है। अभ्यास में शामिल होने के लिए अवनी चतुर्वेदी जल्द ही जापान रवाना होने वाली है।

स्क्वाड्रन लीडर अवनी चतुर्वेदी एक Su-30MKI पायलट हैं। ‘वीर गार्जियन 2023’ अभ्यास 16 जनवरी से 26 जनवरी के बीच ओमिटामा में हयाकुरी एयर बेस और इसके आसपास के हवाई क्षेत्रों के साथ ही जापान में सयामा में इरुमा एयर बेस में किया जाएगा। इससे पहले फ्रांसीसी वायु सेना के अलावा भारत आने वाली विदेशी सेनाओं के दलों के साथ इन महिला पायलटों ने युद्धाभ्यास में भाग लिया है।

Also Read – लखनऊ: जिम में वर्कआउट के दौरान डॉक्टर की मौत, CCTV में कैद हुआ पूरा वीडियो

हालांकि, यह पहली बार है कि जब वे किसी विदेशी जमीन पर अपना रण-कौशल दिखाएंगी। यह युद्धाभ्यास जापान के ओमिटामा में हयाकुरी एयरबेस और इसके आसपास के हवाई क्षेत्र औरसयामा में इरूमा एयरबेस में किया जाएगा। इस विमान के बारे में अद्वितीय बात यह है कि यह उच्च गति और कम गति दोनों पर युद्धाभ्यास कर सकता है।

जानकारी के मुताबिक यह कई ईंधन भरने के कारण बहुत लंबी दूरी के मिशन करने को पूरी करने की क्षमता रखता है। Su-30MKi एक बहुमुखी मल्टीरोल लड़ाकू विमान है जो एक साथ हवा जमीन और हवा से हवा दोनों मिशनों को अंजाम दे सकता है। भारतीय Su-30MKI काफी बेहतरीन है क्योंकि यह दुनिया की सर्वश्रेष्ठ तकनीकों और हथियारों से लैस हैं। भारतीय Su-30MKI के हथियार, सेंसर और एवियोनिक्स इसे दुनिया के लड़ाकू विमान से अलग बनाता है।

अवनि चतुर्वेदी फाइटर जेट उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला पायलट हैं। अवनि युद्ध की स्थिति में अवनि सुखोई जैसे विमान भी उड़ा सकती हैं। मध्य प्रदेश के रीवा में जन्मी फ्लाइट लेफ्टिनेंट अवनी चतुर्वेदी देश की पहली महिला फाइटर पायलट हैं। फ्लाइट ऑफिसर अवनी चतुर्वेदी (Flight Officer Avani Chaturvedi) साल 2018 में मिग-21 विमान उड़ाकर पूरे देश में स्टार बन गई थीं। अवनि चतुर्वेदी का जन्म 27 अक्टूबर 1993 को रीवा जिले में हुआ था। अवनि के पिता का नाम दिनकर चतुर्वेदी हैं और वो मध्य प्रदेश सरकार के जल संसाधन विभाग में सुपरिंटेंडिंग इंजीनियर हैं। जबकि उनकी मां एक हाऊसवाइफ हैं।