Karwa Chauth 2021: करवाचौथ आज, ये है शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और पूजन सामग्री

Karwa Chauth 2021: कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष चतुर्थी तिथि के दिन करवा चौथ का व्रत रखा जाता है। इस साल 24 अक्टूबर यानि आज करवा चौथ मनाया जाएगा।

Karwa Chauth 2021

Karwa Chauth 2021: कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष चतुर्थी तिथि के दिन करवा चौथ का व्रत रखा जाता है। इस साल 24 अक्टूबर यानि आज करवा चौथ मनाया जाएगा। इस दिन महिलाऐं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती है। साथ ही साज श्रंगार करती है। मेहंदी लगाती है। वहीं सास अपनी बहू को सरगी देती है।

Karva Chauth 2021: How to break your fast in a healthy way | Health -  Hindustan Times

इस सरगी को खाकर करवा चौथ व्रत करती हैं। ये व्रत निर्जला व्रत होता है। शाम को चंद्र दर्शन के बाद महिलाऐं व्रत खोलती हैं। इसे संकष्टी चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। आइए जानते हैं करवाचौथ के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त, चंद्रोदय का समय, पूजन सामग्री और पूजा विधि।

Karwa Chauth 2021 Date, Upvas Time, Muhurat and all you need to know

करवाचौथ पूजन का शुभ मुहूर्त:  
कृष्ण पक्ष की चतुर्थी आरंभ-  24 अक्तूबर प्रातः 3:01 मिनट से
कृष्ण पक्ष की चतुर्थी समाप्त- 25 अक्तूबर प्रातः 5:43 मिनट तक।

करवाचौथ चंद्रोदय का समय:
24 अक्तूबर को रात्रि 8:12 मिनट पर चंद्रोदय होगा। अलग-अलग जगहों पर चांद के निकलने का समय थोड़ा आगे पीछे रहेगा।

Karwa Chauth 2021: जानिए क्या है करवा चौथ के पूजन की सही विधि और चंद्र  अर्घ्य का मंत्र

करवा चौथ पर कैसे करें पूजा:

-इस दिन सुबह स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहनें और व्रत का संकल्प लें।

-इस व्रत में पानी पीना भी मना है। इसलिए जलपान भी न करें।

-जब पूजा करने बैठें तो मन्त्र के जप के साथ व्रत की शुरुआत करें। यह मंत्र है मंत्र: ‘मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये।’

-इसके बाद मां पार्वती का सुहाग सामग्री आदि से श्रृंगार करें।

-श्रंगार के बाद भगवान शिव और मां पार्वती की आराधना करें और कोरे करवे में पानी भरकर पूजा करें। यहां करवे में पानी रखना जरूरी है।

-पूरे दिन का व्रत रखें और व्रत की कथा सुनें।

-रात में चंद्रमा के दर्शन करने के बाद ही अपने पति के साथ व्रत खोलें। इस दौरान पति हाथों ही अन्न और जल ग्रहण करें।

karwa chauth 2020 know karva chauth samagri and solah shringar list in  hindi: Karwa Chauth 2020: यहां जानिए करवा चौथ पूजन की पूरी सामग्री और सोलह  श्रृंगार - India TV Hindi News

महत्‍व:
करवा चौथ का दिन और संकष्टी चतुर्थी एक ही दिन होता है। संकष्‍टी पर भगवान गणेश की पूजा की जाती है और उनके लिए उपवास रखा जाता है। करवा चौथ के दिन मां पारवती की पूजा करने से अखंड सौभाग्‍य का वरदान प्राप्‍त होता है। मां के साथ-साथ उनके दोनों पुत्र कार्तिक और गणेश जी कि भी पूजा की जाती है। वैसे इसे करक चतुर्थी भी कहा जाता है। इस पूजा में पूजा के दौरान करवा बहुत महत्वपूर्ण होता है और इसे ब्राह्मण या किसी योग्य सुहागन महिला को दान में भी दिया जाता है।