इंदौर(Indore) : कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने कहा है कि इंदौर नगर निगम के द्वारा स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के अंतर्गत निर्माणाधीन एमजी रोड सड़क की गुणवत्ता की जांच आईआईटी इंदौर से कराई जाए । शुक्ला ने इस सड़क के निर्माण के दौरान इंदौर नगर निगम के इंजीनियरों के द्वारा ठेकेदार के साथ गठबंधन कर किए गए गुणवत्ता के घोटाले को शर्मनाक बताया है ।

उन्होंने कहा कि यह सड़क 12 इंच की बनना थी लेकिन हाल ही में जब रिपेयरिंग के काम के लिए खुदाई की गई तो यह स्पष्ट हुआ कि 11 इंच की ही सड़क बनाई गई है । यह अपने आपमें एक बड़ा घोटाला है । इस घोटाले के माध्यम से इंजीनियर और ठेकेदार के द्वारा मिलकर 5 करोड़ का घपला किया गया है । शुक्ला ने कहा कि अब यह आवश्यक है कि इस मामले में नगर निगम भ्रष्टाचार के खिलाफ सीधी कार्रवाई करें ।

Read More : 47 साल की उम्र में बेहद हसीन लगती है Shilpa Shetty, साड़ी पहन ढाया कहर

इसके लिए जरूरी है कि इस प्रोजेक्ट में जिन दैनिक वेतन भोगी इंजीनियरों को लगाया गया था उन सभी को तत्काल नौकरी से बर्खास्त किया जाए । इस प्रोजेक्ट के प्रभारी निगम के अधीक्षण यंत्री डीआर लोधी को तत्काल निलंबित करने के साथ-साथ उनके खिलाफ विभागीय जांच की जाए।

Read More : मराठी फिल्म ‘Har Har Mahadev’ पर गहराया विवाद, छत्रपति शिवाजी महाराज के गलत ऐतिहासिक चित्रण का है आरोप

इस सड़क को 12 इंच की जगह 11 इंच का बनाकर घोटाला करने वाले निगम के इंजीनियरों और ठेकेदार के खिलाफ धारा 420, 406, 409 के तहत पुलिस थाने में आपराधिक प्रकरण इंदौर नगर निगम के द्वारा दर्ज कराया जाए । इसके साथ ही इस सड़क की गुणवत्ता की पूरी जांच आईआईटी इंदौर की टीम से कराई जाए । राज्य सरकार को नगर निगम की ओर से यह अनुशंसा की जाए कि इस प्रोजेक्ट के प्रभारी इंजीनियर डीआर लोधी को नौकरी से बर्खास्त करें । उन्हें कंपलसरी रिटायरमेंट दिया जाए उनकी पेंशन ग्रेच्युटी को रोक दिया जाए।