इंदौर(Indore) : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विशेष सशस्त्र बल की 15वीं वाहिनी के मैदान पर सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम में शामिल विद्यार्थियों को संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद कहते थे कि जो जैसा सोचता है और करता है वह वैसा ही बन जाता है। इसलिए विद्यार्थियों को अपने आपको कमजोर नहीं समझना चाहिए बल्कि मजबूत समझना चाहिए, तभी वह मजबूत बनेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने विद्यार्थियों को समझाइश दी कि वे नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करें।

सूर्य नमस्कार में सभी तरह के आसन शामिल हैं। कार्यक्रम में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद  शंकर लालवानी, राज्यसभा सांसद कविता पाटीदार, इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा, पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता तथा इंदौर विकास प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष  मधु वर्मा, कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी सहित अन्य जन-प्रतिनिधि, अधिकारी और विद्यार्थी भी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सूर्य नमस्कार और योगाभ्यास से हमारे तन के साथ मन भी स्वस्थ रहता है। सब काम हाथों की लकीरों से नहीं बल्कि माथे के पसीने से संभव हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि जो हम ठान लेते हैं, वह कर ही लेते हैं। जैसे इंदौर वासियों ने ठान लिया तो इंदौर को देश का सबसे स्वच्छ शहर बना लिया, जिसे देखने आज विदेशों से लोग आ रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उन्होंने भी मध्यप्रदेश को देश का सबसे विकसित राज्य बनाने की ठान ली है, तो ऐसा करके ही दम लेंगे।