देशमध्य प्रदेश

प्रवासी मजदूरों को खाना, तो स्वास्थ्य कर्मियों को किट बांट रहा आरएसएस

सेवा भाव स्वयंसेवक की आत्मा में निहित प्रथम तत्व होता है एवं राष्ट्र पर जब जब भी विपदा आती है तो स्वयंसेवक निकल पड़ते हैं स्वयं व परिवार की चिंता किये बिना पूरी वसुंधरा को अपना परिवार मान जो भी विपदा हो उसमे पीड़ित मानवता की सेवार्थ…!

वर्तमान समय में राष्ट्र कोरोना नामक महामारी से जूझ रहा है और स्वयंसेवक सेवारत है अपने स्तर पर सेवा कार्यों में.! मालवा प्रान्त (इंदौर उज्जैन संभाग) में इस चुनौतीपूर्ण समय में 25 मार्च से आज तक सेवा व राहत कार्य निरंतर जारी हैं।

प्रांत में कुल …….3904 विभिन्न सेवा कार्य चल रहे हैं जिसमें सेवारत कार्यकर्ताओं की संख्या…..15875 है। कुल मिलाकर ……1,63,263 से अधिक परिवारों को राशन किट प्रदान किया गया इसी प्रकार अभी तक कुल ……….16,28,298 भोजन पैकेट वितरित किए गए। पूरे प्रांत में लगभग …..1,67,710 से अधिक मास्क वितरित किए गए। ….521 स्वयंसेवकों ने रक्तदान किया इसी प्रकार …..1,29,368 परिवारों में आयुर्वेदिक काढ़ा वितरित किया गया।…31,620 घुमंतू जाति के बंधुओं को सहयोग किया गया

प्रवासी श्रमिकों को राहत व भोजन

प्रांत के प्रमुख राजमार्ग आगरा-मुंबई मार्ग एवं महू जयपुर मार्ग पर बिजासन घाट, सेंधवा, जुलवानिया, मानपुर, राऊ, इंदौर, देवास, मक्सी, शाजापुर, धार, रतलाम, जावरा, मंदसौर, नीमच आदि स्थानों पर अनेक सहायता केन्द्र स्थापित किये गये हैं।
इन मार्गों से गुजरने वाले उत्तर प्रदेश बिहार वापस लौटने वाले कोई भी मजदूर भूखे प्यासे ना रहे इस हेतु राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं सेवा भारती समाज एवं अन्य समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग राहत प्रदान कर रहे हैं। मजदूर पैदल, साइकिल या अन्य वाहनों से निकल रहे हैं। बडी संख्या में आवश्यक सामग्री ढोने वाले ट्रक चालक भी ढाबे आदि बंद होने से परेशान हो रहे हैं! ऐसे सभी यात्रियों हेतु भोजन, जल, रास्ते के लिए सूखा अल्पाहार, आयुर्वेदिक काढ़ा, दूध, चाय, स्वास्थ्य परीक्षण, आवश्यक औषधि , विश्राम हेतु छायादार स्थान, मास्क, सैनिटाइजर, पदवेश(जूते एवं चप्पलें) आदि की 24 घंटे निरंतर सेवा दे रहे हैं। पूरे प्रांत में लगभग 30 से अधिक स्थानों पर वितरण केंद्रों के माध्यम से प्रतिदिन 25,000 से अधिक यात्रियों की सहायता की जा रही है।

कोरोना योद्धाओं को स्वास्थ्य किट

कोरोना योद्धा के रूप में सेवा कार्य में लगे सभी चिकित्सा अधिकारियों डॉक्टर, नर्स, सफाई कर्मी पत्रकार, शासकीय एवं अर्ध शासकीय सेवा में कार्यरत सेवा कर्मियों को मास्क गमछे सैनिटाइजर आदि वितरित किए गए साथ ही उनके इस कार्य हेतु जगह-जगह उनका सम्मान भी किया गया जो लोग आज कोरोना महामारी के संकट काल में अपनी मेहनत एवं परिश्रम से समाज को सुरक्षित रखे हुए हैं!

स्वयंसेवकों ने रेलवे स्टेशन पर व्यवस्था सम्भाली

13 व 14 मई को इंदौर से रीवा के लिए एक ट्रेन का संचालन किया गया था इस ट्रेन में जाने वाले चयनित यात्रियों की व्यवस्था की दृष्टि से प्रशासन तथा रेलवे पुलिस के आग्रह पर संघ की महाविद्यालय इकाई के प्रशिक्षित 40 स्वयंसेवकों की टीम की मदद के लिए रेलवे स्टेशन पहुंची वहां पर सभी यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण, रेलवे स्टेशन के बाहर बस से आने वाले सभी यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए रेल में उनके नियत स्थान पर बैठाने की व्यवस्था मैं सहयोग किया गया ।