अन्य

वायुसेना प्रमुख की चीन को चेतावनी- बहादुरों का बलिदान बेकार नहीं जाने देंगे, जवाब देने के लिए तैयार

हैदराबाद: लदाख में भारत-चीन सीमा पर तनाव की स्थिति के बीच वायुसेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने चीन को दो टूक कहा है। वायुसेना प्रमुख ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा है कि गलवान घाटी के बहादुरों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। गौरतलब है कि चीनी सैनिकों से हिंसक झड़प में हमारे 20 जवाब शहीद हो गए थे।

चीन से तनातनी के बीच आज वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया एकेडमी फॉर कम्पाइनड ग्रेजुएशन परेड के लिए हैदराबाद पहुंचे। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल ने पासिंग आउट परेड के दौरान वायुसेना के जवानों को संबोधित किया।

आगे वायुसेना प्रमुख ने कहा कि हम शांति से सभी मुद्दों को हल करना चाहते हैं, लेकिन हम चीन को ये भी बता देना चाहते हैं कि किसी भी आक्रमकता का जवाब देने के लिए हमारी सेना पूरी तरह से तैयार है।’ उन्होंने कहा कि मैं राष्ट्र को विश्वास दिलाता हूं कि हम गलवान घाटी के बहादुरों के बलिदान को कभी व्यर्थ नहीं जाने देंगे।

गौरतलब है कि चीन से जारी तनाव के बीच भारतीय सेना पूरी तरह से तैयार है। वायुसेना ने भी लेह-लद्दाख में अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं। वायुसेना की तैयारियों का जायजा लेने के लिए एयरचीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने दो दिनों में लेह और श्रीनगर का दौरा किया है। इस दौरान वायुसेना प्रमुख ने तैयारियों के संबंध में पूरी जानकारी ली।

एयरफ़ोर्स में शामिल हुए 123 जाबाज़

इस पासिंग आउट परेड के साथ ही भारतीय एयर फोर्स को 123 जाबांज मिले हैं जिनमें 19 महिला अफसर शामिल हैं। इस दौरान वायुसेना प्रमुख ने पाउसिंग आउट परेड की सलामी ली। पासिंग आउट परेड को विभिन्न IAF शाखाओं के फ्लाइट कैडेट्स के प्री-कमीशनिंग प्रशिक्षण के सफल समापन का प्रतीक माना जाता है।