देश

मैनकाइंड फार्मा ने कोविड के दौरान शहीद हुए पुलिसवालों के परिवारों को 5 करोड़ रुपये दान किए

किए मौजूदा कोविड-19 प्रकोप के दौरान देश का पुलिस बल अग्रिम मोर्चे पर रहकर इस महमारी से लड़ाई कर रहा है। कई समर्पित पुलिसकर्मियों ने इस दौरान अपनी जान गंवा दी है।

एक जिम्मेहदार कंपनी होने के नाते, मैनकाइंड फार्मा इन हीरोज के परिवारों के साथ खड़ा हुआ है और इसने उन्हें। सहयोग देने के लिए 5 करोड़ रुपये दान किए हैं। कंपनी इन वॉरियर्स के प्रत्येरक परिवार को 3 लाख रुपये दान करेगी।

मैनकाइंड फार्मा कई तरह से महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई में शामिल रहा है। कंपनी ने किफायती दवाओं का उत्पाोदन किया, राज्यों को वेंटिलेटर्स, पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) और दवाईयां दान कीं। कोरोनावायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए पुलिस बल के इन समर्पित प्रयासों से समाज के सभी वर्गों से उन्हेंर प्रशंसा मिल रही है। मैनकाइंड फार्मा का मानना है कि एक नागरिक और देश के हिस्सेस के तौर पर यह हमारा कर्तव्यह है कि हमारे बहादुर पुलिस अधिकारियों के निस्वाकर्थ बलिदान की सराहना की जाए।

एक प्रमुख फार्मा कंपनी होने के नाते, मैनकाइंड फार्मा की हमेशा से शीर्ष ब्रांड बनने की आकांक्षा रही है। न सिर्फ राजस्वक के लिहाज से बल्कि अपनी सीएसआर गतिविधियों के माध्यडम से लोगों को सेवा करने में भी। देश में महामारी के शुरुआती चरण के दौरान, कंपनी ने सीएम केयर फंड में 51 करोड़ रुपये दान किए हैं। कर्मचारियों ने भी इस प्रयास में अपना सहयोग दिया और रिलीफ फंड में अपनी एक दिन की सैलरी दान की।

हाल ही में, मैनकाइंड फार्मा ने ओडिशा की रमा साहू, बिहार की ज्यो ति कुमारी, मदुरै की सी. मोहन, पुणे के अक्षय कोठावा और वंकला गांव, सूरत के दवगनिया परिवार को भी 1 लाख रुपये मुहैया कराए हैं। इन सभी ने महामारी के दौरान अपने-अपने तरीके से कम्युपनिटी में मदद की है।

राजीव जुनेजा, सीईओ मैनकाइंड फार्मा ने कहा, “हमारे पुलिस वॉरियर्स ने अप्रत्याैशित संकट से लड़ाई में अपनी जिंदगी की परवाह न करते हुए अदम्य् साहस दिखाया है। कोविड के दौरान स्वाॉस्य्है कर्मियों के बाद वे हमारी रक्षा करने में सबसे आगे रहे, लेकिन इस वजह से इस जानलेवा बीमारी के संक्रमण में आने का खतरा काफी बढ़ गया है। महामारी से लड़ने और हमारी रक्षा करने के दौरान कई पुलिस अधिकारियों ने अपनी जान गंवा दी। देश के प्रति उनकी अमूल्य सेवा और मानवीयता को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

उन्हेंव श्रृंद्धांजलि अर्पित करते हुए, हमने इन मृत योद्धाओं के परिवारों को सहयोग करने एवं उनकी देखरेख के लिए 5 करोड़ रुपये की छोटी सी राशि के साथ शुरुआत की है। हमें आशा है कि हमारी छोटी सी मदद से इन पुलिस वॉरियर्स के परिवारों को भविष्यश के लिए थोड़ा सहयोग जरूर मिलेगा।”