देश

भारत ने अपनाए सख्त तेवर, लद्दाख में बढ़ाई सैनिकों की तैनाती

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है। चीन द्वारा की गई सैनिकों की बड़ी संख्या में तैनाती के बाद अब भारत ने भी सख्त तेवर दिखाना शुरू कर दिए गए हैं। जिसके चलते भारतीय सेना ने लद्दाख में चीन सीमा पर अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। इतना ही नहीं चीनी सैनिकों की घुसपैठ पर अंकुश लगाने के लिए भारत ने लद्दाख के अतिरिक्त क्षेत्रों में भी गश्त और निगरानी बढ़ा दी है।

बता दें कि चीन ने से दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) और 114 ब्रिगेड के तहत निकटवर्ती क्षेत्रों में 5000 सैनिकों को तैनात किया गया है। वहीं चीनी सैनिकों को किसी भी तरह से आगे बढ़ने से रोकने के लिए भारतीय सेना ने वायु सेना की सहायता से चीनी सैनिकों की अग्रिम इलाकों में तैनाती की है।

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो सीमा पर चीनी सैनिक आक्रमक रुख अपना रहे हैं। वे पैंगोंग झील और फिंगर क्षेत्र में भारी वाहनों के साथ-साथ निर्माण कार्य के उपकरण भी लाना शुरू कर दिया है। वहीं भारत ने भी गालवान क्षेत्र में अपने गश्ती क्षेत्रों को जोड़ने के लिए सड़क निर्माण शुरू कर दिया है। बता दें कि शुक्रवार को चीन ने इस निर्माण पर आपत्ति जताई थी। जिसके बाद चीन ने इन क्षेत्रों में करीब 900 सैनिकों को तैनात कर दिया जहां 90 टेंट लगाए गए हैं।

इधर भारत ने चीनी सैनिकों से निपटने के लिए और बराबरी का मुकाबला करने के लिए सड़क मार्ग और हेलीकॉप्टर के जरिए अग्रिम क्षेत्रों में और सैनिक भेजे हैं। भारत ने लद्दाख में गश्त और निगरानी भी बढ़ाई है। इतना ही नहीं हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में उन सीमावर्ती क्षेत्रों में भी अपनी निगरानी और कड़ी कर दी है जहां पर बीते सालों में चीन ने अपनी उपस्थिति और अतिक्रमण को बढ़ाया है। सिक्किम सेक्टर में भी भारतीय सैनिकों की तैनाती की गई है।