दिल्लीदेश

चक्रवाती तूफ़ान की रफ़्तार तेज, अगले छह घंटे बेहद अहम!

नई दिल्ली : कोरोना वायरस के संकट के बीच दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी में बना दबाव चक्रवाती तूफ़ान में बदलाव ला रहा है. इसके चलते तूफ़ान की रफ़्तार तेज हो गई है. रविवार को मौसम विभाग न बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान के तेज होने के बाद पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटों के लिए अलर्ट जारी किया है.

भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र के डायरेक्टर एचआर बिस्वास ने कहा कि “बंगाल की खाड़ी में उठा तूफान अगले 12 घंटों में और तेज होने की संभावना है. जो 18 मई यानी सोमवार को गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है. इस दौरान तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की आशंका है. मछुआरों को समंदर तट पर ना जाने की सलाह दी गई है.”

NDRF टीम तैनात-

इस तूफ़ान के बढ़ते खतरे के चलते एनडीआरएफ की टीम को अलर्ट कर दिया गया है. एनडीआरएफ के डीजी ने रविवार को बताया कि “ओडिशा में 10 टीमें भेज दी गई हैं, इसके साथ ही हालात पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है.”

इस वजह से बन रहा चक्रवाती तूफान-

मौसम विभाग ने इस तूफान के बारे में जानकारी दी है. विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी के ऊपर और दक्षिण अंडमान सागर के पास कम दबाव का क्षेत्र बनने से यह तूफान बन रहा है.

मौसम विभाग ने कहा कि “अगर ये चक्रवाती तूफान के तौर पर विकसित हुआ तो ये 17 मई तक उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ेगा और फिर उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने का अनुमान है. इस समय हवा की रफ्तार 55-65 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है, जो बढ़कर 75 किलोमीटर प्रतिघंटा तक पहुंच सकती है.”