इस मंदिर में ये कैसे नियम, प्रसाद खाने से होता हैं कुछ ऐसा

0
82
balaji

चमत्कारी मंदिरों में कोई ना कोई रहस्य जरुर ही रहता हैं। जिसके कारण उस मंदिर की महीमा और भी ज्यादा हो जाती हैं। हर मंदिर की अपनी ही खासियत होती हैं। ऐसा ही एक चमत्कारी मंदिर हैं बालाजी का जो कि मेहंदीपुर बालाजी के नाम से प्रसिद्ध हैं। यह मंदिर अपने आप में ही एक खास भूमिका रखता हैं। यहां भक्त दूर दूर से अपनी मनोकामनाओं और परेशानियों लेकर आते हैं। इस मंदिर की खासियत को लेकर जितना कहा जाए अतना ही कम हैं।

राजस्थान के दौसा जिले में स्थित मेहंदीपुर बालाजी मंदिर में पहली बार जाने पर हर कोई यहां का नजारा देख कर दंग ही रह जाता है। यहां लोग अपने परिजनों जिनके ऊपर काली छायी और प्रेत बाधा का साया रहता है उनसे मुक्ति पाने के लिए इस मंदिर में आते हैं। और इस मंदिर की महीमा इतनी हैं कि मात्र प्रसाद ग्रहण करने से ही बुरी शक्तियों का असर खत्म हो जाता हैं। प्रेत या कोई भी बूरी शक्ति को दूर करने के लिए हमारे जहन में सबसे पहले हनुमान जी का ही नाम आता हैं।

इस मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति में बायीं छाती में एक छोटा सा छेद हैं जिससे हमेशा ही पानी निकलता रहता हैं। ऐसा माना जाता हैं कि यह बालाजी का पसीना है। इसकी मान्यता हैं कि इस मंदिर में तीन देवता विराजते हैं एक तो स्वयं बालाजी, दूसरे प्रेतराज और तीसरे भैरों जिन्हें कप्तान भी कहा जाता हैं।

अब बात करते हैं इस मंदिर में मिलने वाले प्रसाद की यहां की खासियत हैं कि बालाजी को लड्डू, प्रेतराज को चावल और भैरों को उड़द का प्रसाद चढ़ाया जाता हैं। इस प्रसाद में बालाजी के प्रसाद के दो लड्डू खाते ही भूत-प्रेत से पीड़ित व्यक्ति के अंदर मौजूद भूत प्रेत छटपटाने लगता है। और व्यक्ति को अपने कब्जे से छोड़ देता हैं।

इन कड़े नियमों का करना होगा पालन

मेंहदीपुर बाला जी के मंदिर में भक्त जाने से पहले इन नियमों को जरुर ध्यान में रखें। मंदिर जाने वालों को हमेशा ही इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यहां आने से कम से कम एक सप्ताह पहले लहसुन, प्याज, अण्डा, मांस, शराब आदि का सेवन बंद कर देना चाहिए।

आमतौर पर किसी भी प्रसिद्ध मंदिर में जाते हैं तो वहां से प्रसाद लेकर घर आते हैं लेकिन मेंहदीपुर बालाजी मंदिर से भूलकर भी प्रसाद को घर नहीं लाना चाहिए। ऐसा करने से आपके ऊपर प्रेत या बूरी शक्तियों का साया आ सकता है। बालाजी के दर्शन से लौटते समय ध्यान रखना चाहिए कि आपकी जेब या बैग में खाने-पीने की कोई भी चीज न हो। यहां का नियम है कि यहां से खाने पीने की कोई भी चीज घर पर नहीं लानी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here