भारत में लगातार मौसम का मिजाज तेजी से बदल रहा है। दक्षिण में बारिश का कहर जारी है, इसी के साथ पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी का दौर जारी होने से देश के अधिकांश क्षेत्रों में ठंंडक बढ़ने लगी है। गुरूवार को बंगाल की दक्षिण पूर्व खाड़ी के ऊपर दबाव अधिक होने से चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है। इससे तमिलनाडु तथा पुडुचेरी में एक बार फिर से भारी बारिश हो सकती है। इसकी वजह देश के कुछ इलाकों में शिक्षण संस्थान बंद करने के आदेश जारी कर दिए गए है।

इन जिलों में बंद किए स्कूल-कॉलेज

मौसम विभाग ने तमिलनाडू और पुडुचेरी में भारी बारिश होने के संकेत दिए है। जिसकी वजह से वहां की सरकार ने गुरूवार यानि आज तिरुवरूर जिले के स्कूलों और तंजावुर जिले के स्कूलों और कॉलेजों के लिए अवकाश घोषित कर दिया गया है।

दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार

देश के भिन्न-भिन्न इलाकों में तेजी से मौसम में बदलाव की वजह से दिल्ली की वायु गुणवत्ता में कभी गिरावट तो कभी सुधान देखने को मिल रहा है। बीते कल राष्ट्रीय राजधानी की हवा प्रदूषित थी वही आज कल की तुलना में बेहतर है। इसकी वजह से केजरीवाल सरकार ने लगाई गई पाबंदियां हटा दी गई है। वही दिल्ली वासियों को भी राहत की खबर है। एयर क्वालिटी दिल्ली में आज यानि गुरुवार को औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 284 दर्ज किया गया, जो खराब स्थिति है। पिछले कुछ दिनों से राजधानी में एक्यूआई बेहद खराब बना हुआ था और शनिवार को ये गंभीर श्रेणी में पहुंच गया था।

लखनऊ में हल्का कोहरा

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में न्यूनतम तापमान में भारी गिरावट देखने को मिली है। न्यूनतम तापमान गिरकर 11 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। वहीं अधिकतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस है। लखनऊ में हल्का कोहरा छाया रहा है। इसके साथ ही गाजियाबाद में भी तापमान में भारी गिरावट देखी जा रही है।

Also Read : CM शिवराज ने की बड़ी घोषणा, प्रदेश की सभी अवैध कॉलोनियां होगी वैध

कश्मीर में बूंदाबादी

कश्मीर सहित पर्वतीय राज्यों में शीतलहर की स्थिति से कुछ राहत लोगों को मिल रही ।है घाटी में पारा अभी भी माइनस के नीचे बना हुआ है। इस सप्ताह के अंत तक कश्मीर और आसपास के क्षेत्रों में हल्की बारिश और बूंदाबांदी की संभावना जताई गई है। पश्चिमी विक्षोभ एक्टिव होने के कारण बारामूला और गुलमर्ग में हल्की बूंदाबादी देखने को मिल सकती है।

इन राज्यों में शीतलहर

हरियाणा पंजाब राजस्थान और गुजरात सहित मध्य प्रदेश में मौसम में तेजी से बदलाव देखा जाएगा। फिलहाल दो-तीन दिन तक मौसम शुष्क रहने का पूर्वानुमान जारी किया गया। हालांकि इसके बाद दिसंबर के दूसरे सप्ताह में इन क्षेत्रों में तापमान में भारी गिरावट देखी जाएगी। इसके साथ ही धुंध और कोहरे की दस्तक के साथ शीतलहर का पूर्वानुमान जारी किया गया है।

चक्रवाती तूफान मेंडुस का खतरा

वही बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दाब के कारण चक्रवाती तूफान और बारिश के खसरे का अलर्ट जारी किया गया है। चक्रवाती तूफान मेंडुस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। जिसके कारण तमिलनाडु के 13 जिले में रेड अलर्ट जारी किया गया है। मछुआरों को समुद्र टल से दूर रहने की चेतावनी जारी कर दी गई है। आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र में भी बारिश की गतिविधि में वृद्धि देखी जाएगी। 12 दिसंबर तक क्षेत्रों में बारिश का दौर जारी रहेगा। इसके अलावा 8 दिसंबर से 10 दिसंबर तक अंडमान निकोबार दीप समूह सहित आंध्र प्रदेश के दक्षिण तटीय क्षेत्र श्रीलंका तमिलनाडु के समुद्र तट पर स्थिति काफी खराब होने की संभावना बन रही है।

Also Read : Himachal Pradesh Election : हिमाचल चुनाव में मिली जीत के लिए कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रियंका गांधी की बताई अहम भूमिका

3 दिन तक बारिश का दौर

बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र अब गहरे दबाव में बदल गया है और बुधवार को ये चेन्नई से लगभग 770 किलोमीटर दूर स्थित था। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने ये जानकारी दी. आईएमडी ने एक बुलेटिन में कहा कि गहरा दबाव चक्रवाती तूफान में बदल सकता है और तमिलनाडु तथा पुडुचेरी में इसके असर से मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। ये बारिश 3 दिन तक देखने को मिल सकती है।

दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र 6 दिसंबर की शाम को उसी क्षेत्र में गहरे दबाव में बदल गया और कराईकल से लगभग 690 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व तथा चेन्नई से लगभग 770 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व में स्थित था। आज यानी 8 दिसंबर की को दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, उत्तरी तमिलनाडु-पुडुचेरी और आंध्र प्रदेश के दक्षिणी तटों तक इसके पहुंचने की संभावना है।

हवा की तेज रफ्तार

इसके प्रभाव से 8 से 10 दिसंबर के बीच तटीय तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, आंध्र प्रदेश के दक्षिणी हिस्से के अधिकतर स्थानों और रायलसीमा में हल्की से मध्यम वर्षा तथा छिटपुट स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है। इसके साथ आठ दिसंबर को हवा की रफ्तार घटकर 40-45 किमी प्रति घंटे की हो सकती है।